Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।

सुना है वही रखता है बदहाल भी बहाल भी,
सुना है वो टूटों को भी अमूमन जोड़ देता है।

सुना है उसी के बस में है उरूज़ भी जवाल भी,
वही है जो बहते दरियाओं को भी मोड़ देता है।

सुना है उसकी रहमत हैं ये चमन भी बहार भी,
सुना है वो फूलों में नई नायाब सुगंध भरता है।

बारिशें भी उसकी सौगात हैं प्यासी धरती को,
सुना है वो तितलियों को बैठाकर रंग भरता है।

सुना है पत्ता नहीं हिलता उसकी मर्ज़ी के बिना,
वही है जो हर सफ़र की कहानी को लिखता है।

सुना है बिछड़ के भी महकता है फूल डाली से,
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
-मोनिका

1 Like · 1 Comment · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Monika Verma
View all
You may also like:
व्याकरण पढ़े,
व्याकरण पढ़े,
Dr. Vaishali Verma
"फूल बिखेरता हुआ"
Dr. Kishan tandon kranti
ਪਰਦੇਸ
ਪਰਦੇਸ
Surinder blackpen
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
'अशांत' शेखर
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मैं और मेरा
मैं और मेरा
Pooja Singh
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
ख़ामोश सा शहर
ख़ामोश सा शहर
हिमांशु Kulshrestha
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
Dr. Man Mohan Krishna
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंधेर नगरी-चौपट राजा
अंधेर नगरी-चौपट राजा
Shekhar Chandra Mitra
💐 Prodigy Love-4💐
💐 Prodigy Love-4💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तो जानो आयी है होली
तो जानो आयी है होली
Satish Srijan
किसी पत्थर पर इल्जाम क्यों लगाया जाता है
किसी पत्थर पर इल्जाम क्यों लगाया जाता है
कवि दीपक बवेजा
■ बहुत हुई घिसी-पिटी दुआएं। कुछ नया भी बोलो ताकि प्रभु को भी
■ बहुत हुई घिसी-पिटी दुआएं। कुछ नया भी बोलो ताकि प्रभु को भी
*Author प्रणय प्रभात*
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख्वाइश है …पार्ट -१
ख्वाइश है …पार्ट -१
Vivek Mishra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
चाय सिर्फ चीनी और चायपत्ती का मेल नहीं
चाय सिर्फ चीनी और चायपत्ती का मेल नहीं
Charu Mitra
*गाता मन हर पल रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*गाता मन हर पल रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
माना  कि  शौक  होंगे  तेरे  महँगे-महँगे,
माना कि शौक होंगे तेरे महँगे-महँगे,
Kailash singh
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
Rj Anand Prajapati
हिन्दी के हित
हिन्दी के हित
surenderpal vaidya
Loading...