Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-284💐

वहीं बताएँ इश्क़ की बला क्या है।
आसूँ ही गिरे इसमें भला क्या है।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"जीना-मरना"
Dr. Kishan tandon kranti
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Praveen Thakur
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कवि दीपक बवेजा
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
DrLakshman Jha Parimal
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मैं जिंदगी हूं।
मैं जिंदगी हूं।
Taj Mohammad
तूफानों से लड़ना सीखो
तूफानों से लड़ना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐 Prodigy Love-19💐
💐 Prodigy Love-19💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सिंधु  (कुंडलिया)
सिंधु (कुंडलिया)
Ravi Prakash
■ नैसर्गिक विधान...
■ नैसर्गिक विधान...
*Author प्रणय प्रभात*
एक कदम सफलता की ओर...
एक कदम सफलता की ओर...
Manoj Kushwaha PS
आज़ाद पंछी
आज़ाद पंछी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Music and Poetry
Music and Poetry
Shivkumar Bilagrami
तारे दिन में भी चमकते है।
तारे दिन में भी चमकते है।
Rj Anand Prajapati
कारकुन
कारकुन
Satish Srijan
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
दुआ पर लिखे अशआर
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
फितरत
फितरत
umesh mehra
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
Vishal babu (vishu)
More important than 'what to do' is to know 'what not to do'.
More important than 'what to do' is to know 'what not to do'.
Dr. Rajiv
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
Loading...