Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2022 · 1 min read

“ वसुधेव कुटुम्बकंम ”

डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”

==================

सब कोई

मेरे अपने हैं

मैं उनके दिल

में रहता हूँ

शायद मिलन

हो ना हो

मैं बातें उनसे

करता हूँ !!

भाषाओं की

तकरार नहीं

धर्मों की

दीवार कहाँ है

नहीं रंग रूप

में भेद भाव

मजहब की

दीवार कहाँ है !!

विश्व हमारा

गाँव बना है

धरती- आकाश

हमारा है

सब हैं सबके

साथ यहाँ

एक – दूजे का

सहारा है !!

शक्तिशाली हम

बने सदा

पर शांति

बनाए रखना है

वसुधेव कुटुम्बकंम

के मंत्रों को

याद सदा ही करना है !!

===================

डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”

साउंड हेल्थ क्लिनिक

एस ० पी ० कॉलेज रोड

नागपथ

दुमका

18.09.2022

Language: Hindi
2 Likes · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपने अपने युद्ध।
अपने अपने युद्ध।
Lokesh Singh
♥️राधे कृष्णा ♥️
♥️राधे कृष्णा ♥️
Vandna thakur
"पता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
बच्चा जो पैदा करें, पहले पूछो आय ( कुंडलिया)
बच्चा जो पैदा करें, पहले पूछो आय ( कुंडलिया)
Ravi Prakash
प्रेम से बढ़कर कुछ नहीं
प्रेम से बढ़कर कुछ नहीं
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
नाम हमने लिखा था आंखों में
नाम हमने लिखा था आंखों में
Surinder blackpen
मैं अपने सारे फ्रेंड्स सर्कल से कहना चाहूँगी...,
मैं अपने सारे फ्रेंड्स सर्कल से कहना चाहूँगी...,
Priya princess panwar
जिंदगी रूठ गयी
जिंदगी रूठ गयी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नमन उस वीर को शत-शत...
नमन उस वीर को शत-शत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
होली आ रही है रंगों से नहीं
होली आ रही है रंगों से नहीं
Ranjeet kumar patre
जो उसके हृदय को शीतलता दे जाए,
जो उसके हृदय को शीतलता दे जाए,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
Dr fauzia Naseem shad
*बाल गीत (पागल हाथी )*
*बाल गीत (पागल हाथी )*
Rituraj shivem verma
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
Shweta Soni
राखी
राखी
Shashi kala vyas
इश्क तो बेकिमती और बेरोजगार रहेगा,इस दिल के बाजार में, यूं ह
इश्क तो बेकिमती और बेरोजगार रहेगा,इस दिल के बाजार में, यूं ह
पूर्वार्थ
2396.पूर्णिका
2396.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीवन में आगे बढ़ जाओ
जीवन में आगे बढ़ जाओ
Sonam Puneet Dubey
अड़बड़ मिठाथे
अड़बड़ मिठाथे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Shriyansh Gupta
चिकने घड़े
चिकने घड़े
ओनिका सेतिया 'अनु '
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
सरस्वती बंदना
सरस्वती बंदना
Basant Bhagawan Roy
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
Slok maurya "umang"
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*प्रणय प्रभात*
शरद पूर्णिमा पर्व है,
शरद पूर्णिमा पर्व है,
Satish Srijan
Loading...