Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

वसंत

मनवी मूल्यों के खुशियों का वसंत

जब बहती शीतल मंद बयार. कोयल की कू कू महुया कि खूसूब खास।।

खेतो मैं हरियाली खुशहाली कि झूमती बाली हर सुबह सूरज युग विश्वशो की मुस्कान!!

आम की बौर की शान मधुर मिठास की बान अंधेरों के बादल छटे धूध मुक्त आकाश.!!

मुक्त पवन के झोकों में इतराती इठलाती बलखाती अपनी धुन में मुस्काती ।

युग उत्सव अागमन की सतरंगी बहुरंगी कली फूल मानव मानवता की बगिया की अभिमान सम्मान.!!

रंग रंग के पंख उमंग बाग बाग की डाल डाल पे पंछी तितली भौरो का कलरव मधु मास वसंत उल्लास!!

निर्मल निर्झर बहती नित निरंतर नदिया, झरने, सागर, पर्वत अचल अस्तित्व का मान!!

जल जीवन का भान सरोवर पंकज प्राणी प्राण प्रकृति महत्व का युग मे प्रथम शौर्य अवाहन संस्कार!!

धरा धन्य दुल्हन वासन्ती बाला मानवता की हाला जीवन युग की मधुशाला का नव शृंगार !!

प्रकृति प्रेरणा धीर वीर पुरुषार्थ. छठ गया तिमिर चहू ओर पल्लवित पूलकित उमंग संचार !!

मन तरंग सप्त रंगो के भावो की भावना रंगो कि बौछार ही बौछार!!

कण कण वसुंधरा फागुन का गीत मीत संगीत मानव मूल्य धरोहर का परम बैभव प्रज्वलित प्रकाश ही प्रकाश !!

नारी गरिमा पराक्रम गौरव गर्व शक्ति की आराधना का प्रातः संध्या मंगलकारी का शुभ मंगल गान!!

दिवस मध्यान शौर्य सूर्य का तेज निखर प्रखर प्रभा प्रभाव शीतल मंद वयार प्रबल प्रवाह।।

मर्यादाओं के मर्म की कदमेा की आहट अंदाज़ पुरुषोत्तम श्रीराम!!

नई सुबह का नया कलेवर नियति की निरंतरता का सत्य अनन्त भाव भाग्य भगवान्!।

Language: Hindi
60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
Vishal babu (vishu)
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
अरमान गिर पड़े थे राहों में
अरमान गिर पड़े थे राहों में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कोई आरज़ू नहीं थी
कोई आरज़ू नहीं थी
Dr fauzia Naseem shad
दिल होता .ना दिल रोता
दिल होता .ना दिल रोता
Vishal Prajapati
गलत चुनाव से
गलत चुनाव से
Dr Manju Saini
*
*"सदभावना टूटे हृदय को जोड़ती है"*
Shashi kala vyas
मैं तो महज इत्तिफ़ाक़ हूँ
मैं तो महज इत्तिफ़ाक़ हूँ
VINOD CHAUHAN
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
रिमझिम बारिश
रिमझिम बारिश
Anil "Aadarsh"
याचना
याचना
Suryakant Dwivedi
अर्ज किया है
अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"ओ मेरी लाडो"
Dr. Kishan tandon kranti
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम हैं कक्षा साथी
हम हैं कक्षा साथी
Dr MusafiR BaithA
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
Santosh Barmaiya #jay
गुरु दीक्षा
गुरु दीक्षा
GOVIND UIKEY
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
गलतियां ही सिखाती हैं
गलतियां ही सिखाती हैं
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
A Little Pep Talk
A Little Pep Talk
Ahtesham Ahmad
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
झूठी साबित हुई कहावत।
झूठी साबित हुई कहावत।
*Author प्रणय प्रभात*
*जो होता पेड़ रूपयों का (सात शेर)*
*जो होता पेड़ रूपयों का (सात शेर)*
Ravi Prakash
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेतों में हरियाली बसती
खेतों में हरियाली बसती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
होली...
होली...
Aadarsh Dubey
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...