Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

वर्तमान लोकतंत्र

देश का वर्तमान लोकतंत्र ,
राजनीति की बिछाई शतरंज ,

लोकहित लुभावने वादों का प्रपंच ,
जाति , धर्म ,संप्रदाय ,आधारित षड्यंत्र ,

आम आदमी जिसका बना मोहरा ,
नेताओं की सद्भावना का छद्मवेषी चेहरा ,

दलगत जोड़-तोड़ , वोट बैंक का जनाधार ,
धन शक्ति, बाहुबल , सत्ता लोलुपता परिपूर्ण आचार व्यवहार ,

स्वार्थपरक, तुष्टीकरण प्रभावित प्रतिनिधियों का नामांकन ,
चुनावी रंगमंच पर नेताओं का अभिनय प्रतिभा का प्रदर्शन ,

आम आदमी के वोट क्रय शक्ति का समर्थक ,
जागरूक मतदाता का मत बना निरर्थक ,

वर्तमान लोकतंत्र की यह परिभाषा ,
कितनी सार्थक ? कितनी अनुरूप ?
अपेक्षित जन अभिलाषा ।

Language: Hindi
94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
तमाम लोग किस्मत से
तमाम लोग किस्मत से "चीफ़" होते हैं और फ़ितरत से "चीप।"
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी की खोज
जिंदगी की खोज
CA Amit Kumar
कविता ....
कविता ....
sushil sarna
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शमशान और मैं l
शमशान और मैं l
सेजल गोस्वामी
संकल्प का अभाव
संकल्प का अभाव
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मैं फकीर ही सही हूं
मैं फकीर ही सही हूं
Umender kumar
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
लहसुन
लहसुन
आकाश महेशपुरी
🌹मंजिल की राह दिखा देते 🌹
🌹मंजिल की राह दिखा देते 🌹
Dr.Khedu Bharti
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
शेखर सिंह
ज़िंदगी ज़िंदगी ही होतीं हैं
ज़िंदगी ज़िंदगी ही होतीं हैं
Dr fauzia Naseem shad
*मेरा विश्वास*
*मेरा विश्वास*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*मुर्गा की बलि*
*मुर्गा की बलि*
Dushyant Kumar
बालबीर भारत का
बालबीर भारत का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मत रो लाल
मत रो लाल
Shekhar Chandra Mitra
"ये तन किराये का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कोयल (बाल कविता)
कोयल (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
"जिंदगी"
नेताम आर सी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब मुझसे मिलने आना तुम
जब मुझसे मिलने आना तुम
Shweta Soni
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
Shyam Sundar Subramanian
రామయ్య మా రామయ్య
రామయ్య మా రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मुलभुत प्रश्न
मुलभुत प्रश्न
Raju Gajbhiye
चाँद
चाँद
Vandna Thakur
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
पिता की नियति
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
Loading...