Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

वयम् संयम

सुन टुकड़े-टुकड़े की भभकियां
अब नही सिहर जाता मैं !
देख बिखरने की साजिशें
अब नही बिखर जाता मैं !!

चन्द लोगों की खताओं पर
अब नही विफर जाता मैं !
जहां न होती इंसानियत
अब नही उधर जाता मैं !!

मैं,मेरा,श्रेष्ठ,सर्वश्रेष्ठ की बहस
तू-तू मैं-मैं,नही किधर जाता मैं !
वचन,प्रवचन-प्रपंच,तर्क-तकरीर
अब खुद ही सुधर जाता मैं !!

छल,छद्म और फेक-फरेबी में
यह दुनिया नकली पाता मैं !
बहुत आया था बहकावे में
अब झांसे में नही आता मैं !!

हूं अदना सा आम आदमी
आकाओं में नही चुना जाता मैं !
लड़ता हूं रोज जंग-ए-जिंदगी
रणबांकाओं में नही गिना जाता मैं !!

जाग रहा हूं, चेत रहा हूं
अब हां में हां नही मिलाता मैं !
यूं ही सांपनाथ, नागनाथ को
अब दूध नही पिलाता मैं !!

हो सतर्क,तर्क से फर्क कर
यूं ही मिथ्या नही फैलाता मैं !
भटकी भेड़ चाल चल के
लकीर का फकीर न बनता मैं !!

दब्बू स्पंज के टुकड़े जैसा
अब पुरजोर नही दबता मैं !
दबने पर अब स्प्रिंग जैसे
बिना दूर फेकें ना रुकता मैं !!

इस भागम- भाग में भी
पीछे स्वार्थ के नही भागता मैं !
लुटा दूं सब दूसरों के लिए
जरूरत से ज्यादा न मांगता मैं !!
~०~
मौलिक एवं स्वरचित: रचना संख्या-०६
जीवनसवारो,मई, २०२३.

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
View all
You may also like:
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
*जिनके मन में माँ बसी , उनमें बसते राम (कुंडलिया)*
*जिनके मन में माँ बसी , उनमें बसते राम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
Neelam Sharma
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
Shweta Soni
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
'अशांत' शेखर
💐प्रेम कौतुक-404💐
💐प्रेम कौतुक-404💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन में प्राकृतिक ही  जिंदगी हैं।
जीवन में प्राकृतिक ही जिंदगी हैं।
Neeraj Agarwal
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
हादसे
हादसे
Shyam Sundar Subramanian
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
Naushaba Suriya
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तू रुक ना पायेगा ।
तू रुक ना पायेगा ।
Buddha Prakash
ना जाने क्यों आज वक्त ने हालात बदल
ना जाने क्यों आज वक्त ने हालात बदल
Vishal babu (vishu)
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
भ्रष्टाचार और सरकार
भ्रष्टाचार और सरकार
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
रणजीत कुमार शुक्ल
रणजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
कमाई / MUSAFIR BAITHA
कमाई / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"उजला मुखड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
3111.*पूर्णिका*
3111.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*बस एक बार*
*बस एक बार*
Shashi kala vyas
--> पुण्य भूमि भारत <--
--> पुण्य भूमि भारत <--
Ms.Ankit Halke jha
*यह दौर गजब का है*
*यह दौर गजब का है*
Harminder Kaur
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
■ आह्वान करें...
■ आह्वान करें...
*Author प्रणय प्रभात*
बच्चे
बच्चे
Shivkumar Bilagrami
हर सुबह जन्म लेकर,रात को खत्म हो जाती हूं
हर सुबह जन्म लेकर,रात को खत्म हो जाती हूं
Pramila sultan
*अदृश्य पंख बादल के* (10 of 25 )
*अदृश्य पंख बादल के* (10 of 25 )
Kshma Urmila
Loading...