Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2022 · 1 min read

🇮🇳 वतन पर जां फ़िदा करना 🇮🇳

वतन पर जां फ़िदा करने की, जाने क्यों बनी फितरत
प्यार बांटे थे जीभर के, न जाने क्यों बढ़ी नफरत
वतन पर…………
1) पड़ौसी मुल्क जाने क्यों, पड़ौसी से नहीं होते
करें घुसपैठ हत्यारे, खूनी दामन नहीं धोते
पतन करते स्वयं का वो, घिनौनी सी करें हरकत
वतन पर….…..….
2) मारकर बेगुनाहों को, ताज सर पर पहरते हैं
दुष्ट दंभी भी बने इतने, तनिक न वो ठहरते हैं
आत्मघाति करें हमले, फैला क्यों रहे दहसत
वतन पर………..
3) बेटियां खुश हो भारत की, यही उनको नहीं भाता
वे वज़ह मांग सुनी कर, अधर्म के झण्डे फहराता
कदर न करता अपनों की, फैलाये सिर्फ वो नफरत
वतन पर…………
सीख:- जब 2 देश चैंनो अमन से रह सकते हैं, तो नफरत भरे माहौल में क्यों जियें और जिने दें। धन्यवाद।
लेखक:- खैमसिहं सैनी
M.A, M.Ed, B.Ed
Mob.No. 9266034599

Language: Hindi
4 Likes · 357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ अखंड भारत की दिशा में प्रयास का पहला चरण।
■ अखंड भारत की दिशा में प्रयास का पहला चरण।
*Author प्रणय प्रभात*
बीमारी सबसे बुरी , हर लेती है प्राण (कुंडलिया)
बीमारी सबसे बुरी , हर लेती है प्राण (कुंडलिया)
Ravi Prakash
पिता
पिता
Dr Parveen Thakur
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कुदरत के रंग....एक सच
कुदरत के रंग....एक सच
Neeraj Agarwal
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
दोहा छंद
दोहा छंद
Yogmaya Sharma
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
Phool gufran
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
"मकसद"
Dr. Kishan tandon kranti
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
Shubham Pandey (S P)
बे खुदी में सवाल करते हो
बे खुदी में सवाल करते हो
SHAMA PARVEEN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
2743. *पूर्णिका*
2743. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आँखें
आँखें
लक्ष्मी सिंह
दिन  तो  कभी  एक  से  नहीं  होते
दिन तो कभी एक से नहीं होते
shabina. Naaz
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
Vaishaligoel
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
Mohan Pandey
किसकी कश्ती किसका किनारा
किसकी कश्ती किसका किनारा
डॉ० रोहित कौशिक
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खुशी ( Happiness)
खुशी ( Happiness)
Ashu Sharma
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
मेरे अल्फ़ाज़
मेरे अल्फ़ाज़
Dr fauzia Naseem shad
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
Loading...