Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

वतन के तराने

वतन के तराने सुनाएंँ सभी
सदा स्नेह- गंगा बहाएंँ सभी
लहू कर समर्पित वतन के लिए
वतन अस्मिता को बचाएंँ सभी।।

मलिन पुष्प रौनक बढ़ाते नहीं
जहाँ में किसी काम आते नहीं
निराशा जिसे ज़िन्दगी में मिली
कभी उम्र भर मुस्कराते नहीं।।

पसीना बहाकर खिलाता हमें
कठिन साधना से जिलाता हमें
मुसीबत सदा ही उठाकर श्रमिक
सुकूँ का शहद नित पिलाता हमें।।

बड़ा आदमी वह नहीं नाम से
मुहब्बत उसे थी खुदा राम से
मिसाइल पुरुष नेक इंसा रहा
सभी जानते हैं उसे काम से।।

डॉ.छोटेलाल सिंह ‘मनमीत’

204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* बचाना चाहिए *
* बचाना चाहिए *
surenderpal vaidya
जीयो
जीयो
Sanjay ' शून्य'
सच तो जीवन में हमारी सोच हैं।
सच तो जीवन में हमारी सोच हैं।
Neeraj Agarwal
"गलत"
Dr. Kishan tandon kranti
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
आवाज़
आवाज़
Adha Deshwal
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan Alok Malu
3353.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3353.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
💐श्री राम भजन💐
💐श्री राम भजन💐
Khaimsingh Saini
कन्या
कन्या
Bodhisatva kastooriya
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
शब्द -शब्द था बोलता,
शब्द -शब्द था बोलता,
sushil sarna
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
Ravi Prakash
सुख दुःख
सुख दुःख
जगदीश लववंशी
कविता
कविता
Shyam Pandey
खंडकाव्य
खंडकाव्य
Suryakant Dwivedi
सच कहूं तो
सच कहूं तो
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
है बुद्ध कहाँ हो लौट आओ
है बुद्ध कहाँ हो लौट आओ
VINOD CHAUHAN
भरत मिलाप
भरत मिलाप
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
Satyaveer vaishnav
विवशता
विवशता
आशा शैली
नियति को यही मंजूर था
नियति को यही मंजूर था
Harminder Kaur
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
हम में,तुम में दूरी क्यू है
हम में,तुम में दूरी क्यू है
Keshav kishor Kumar
Loading...