Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

वक्त

लगता है चलते-चलते वक्त कुछ पीछे छूट गया ,
कुछ ऐसे गुजरा की कुछ पता ही नहीं चला ,

हम कहां थे ? कहां से कहां आ गए ?
हम क्या थे ? क्या से क्या हो गए !

कुछ अपनी किस्मत, कुछ अपनी फितरत,
कुछ अपनी मर्ज़ी, कुछ ख़ुदगर्ज़ी,
कुछ अपनी अना, कुछ अपनी वफ़ा से
कुछ मा’ज़ूर , कुछ मजबूर ,
हम क्या से क्या बनकर रह गए !

ख्वाहिशें तो कुछ थीं आसमाँ छूने की ,
ख्वाबों को हक़ीक़त में बदलने की ,

पर वक्त रहते वक्त की कीमत ना पहचान पाए !
भटकते रहे सराबों में हक़ीक़त ना जान पाए !

अब कहते हैं वक्त की गर्दिश ने हमें मार दिया !
जबकि जाने- अनजाने हमनें वक्त को मार दिया।

2 Likes · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
"*पिता*"
Radhakishan R. Mundhra
फूल तो फूल होते हैं
फूल तो फूल होते हैं
Neeraj Agarwal
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
*मौन की चुभन*
*मौन की चुभन*
Krishna Manshi
राजनीति और वोट
राजनीति और वोट
Kumud Srivastava
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
Shyam Sundar Subramanian
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री
वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री
Rj Anand Prajapati
मेरा भारत जिंदाबाद
मेरा भारत जिंदाबाद
Satish Srijan
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सब कुछ बदल गया,
सब कुछ बदल गया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
फगुनाई मन-वाटिका,
फगुनाई मन-वाटिका,
Rashmi Sanjay
अपनों के बीच रहकर
अपनों के बीच रहकर
पूर्वार्थ
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
*परिवार: नौ दोहे*
*परिवार: नौ दोहे*
Ravi Prakash
"रंग भले ही स्याह हो" मेरी पंक्तियों का - अपने रंग तो तुम घोलते हो जब पढ़ते हो
Atul "Krishn"
गले की फांस
गले की फांस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अजब है उसकी माया*
*अजब है उसकी माया*
Poonam Matia
रात-दिन जो लगा रहता
रात-दिन जो लगा रहता
Dhirendra Singh
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
*प्रणय प्रभात*
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
हम बेखबर थे मुखालिफ फोज से,
हम बेखबर थे मुखालिफ फोज से,
Umender kumar
"उजला मुखड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
31/05/2024
31/05/2024
Satyaveer vaishnav
दाम रिश्तों के
दाम रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
Jo mila  nahi  wo  bhi  theek  hai.., jo  hai  mil  gaya   w
Jo mila nahi wo bhi theek hai.., jo hai mil gaya w
Rekha Rajput
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
छोड़ दो
छोड़ दो
Pratibha Pandey
Loading...