Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

वक्त सा गुजर गया है।

कभी कभी उसे भी याद करके जी लेता हूं।
जो आ करके मेरी जिन्दगी में वक्त सा गुजर गया है।।1।।

मैं मशगूल था बड़ा अपनी तन्हा जिंदगी में।
आज यादो में आकर वो अश्कों से नज़रें भर गया है।।2।।

मोहब्बत ने जीने का सलीका सिखा दिया।
इस रूह को नूर ए इश्क से मेरा दिलदार भर गया है।।3।।

कभी कभी यह दिल उतावला हो जाता है।
मेरे तसव्वुर में आकर जब जब वो प्यार कर गया है।।4।।

कोई ना समझता था मुझको उसके सिवा।
पत्थर का दिल था हमारा जो उसपर पिघल गया है।।5।।

मैंने तो करके देखी है तुम भी करके देखो।
मोहब्बत के अहसांसों में देखो ये ताज संवर गया है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
फ़ानी
फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
जी लगाकर ही सदा,
जी लगाकर ही सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
Phool gufran
मार्केटिंग फंडा
मार्केटिंग फंडा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आज का दोहा...
■ आज का दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
शरद
शरद
Tarkeshwari 'sudhi'
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आगाज़-ए-नववर्ष
आगाज़-ए-नववर्ष
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हर पिता को अपनी बेटी को,
हर पिता को अपनी बेटी को,
Shutisha Rajput
छोड़ने वाले तो एक क्षण में छोड़ जाते हैं।
छोड़ने वाले तो एक क्षण में छोड़ जाते हैं।
लक्ष्मी सिंह
(11) मैं प्रपात महा जल का !
(11) मैं प्रपात महा जल का !
Kishore Nigam
आंखन तिमिर बढ़ा,
आंखन तिमिर बढ़ा,
Mahender Singh
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
न छीनो मुझसे मेरे गम
न छीनो मुझसे मेरे गम
Mahesh Tiwari 'Ayan'
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
हज़ारों रंग बदलो तुम
हज़ारों रंग बदलो तुम
shabina. Naaz
कहां नाराजगी से डरते हैं।
कहां नाराजगी से डरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
उमेश शुक्ल के हाइकु
उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
Mohan Pandey
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
Shankar N aanjna
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
# होड़
# होड़
Dheerja Sharma
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
Tum to kahte the sath nibhaoge , tufano me bhi
Tum to kahte the sath nibhaoge , tufano me bhi
Sakshi Tripathi
फेमस होने के खातिर ही ,
फेमस होने के खातिर ही ,
Rajesh vyas
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
Loading...