Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

लौटना मुश्किल होता है

बहुत मुश्किल होता है
निरन्तर बढ रहे उत्साही कदम
पीछे की ओर मोड़ना
जब ऑंखे देख पा रही हो
अपनी मंजिल को बहुत करीब से।
बस चन्द कदमों का ही तो
फासला रह गया था
नियति की दुस्तर धार ने
रास्ते को ही काट डाला।
अब एक गहरी खाई है
मेरे और मंजिल के बीच।
पथ का पाथेय भी तो
खत्म हो रहा समय के साथ
बिन पाथेय ये तन मन
कब तक रुक पाएगा
ऐसे में खुद को बचाने को
वापस लौटना ही होगा।
अगर मैं बचा पाई खुद को
तभी कल सब पाने की
सम्भावना बचा पाऊँगी।
किन्तु आज ये सब
थकी इच्छाएं, स्वप्नों का भार
मेरे पाँव जकड़ रहे हैं।
वापस लौटते मेरे एक-एक कदम
लहूलुहान है इस जकड़न से।
थक गया है मन भी इस सबसे
चाहता है अब एक गहरी नींद
जो एक अरसे से मिलने न आई ।
सच है विपत्ति में
कौन संग रुकता है ?

Language: Hindi
290 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
प्रकृति
प्रकृति
नवीन जोशी 'नवल'
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
विश्रान्ति.
विश्रान्ति.
Heera S
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*हनुमान के राम*
*हनुमान के राम*
Kavita Chouhan
"धैर्य"
Dr. Kishan tandon kranti
किस तरफ़ शोर है, किस तरफ़ हवा चली है,
किस तरफ़ शोर है, किस तरफ़ हवा चली है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
মানুষ হয়ে যাও !
মানুষ হয়ে যাও !
Ahtesham Ahmad
“See, growth isn’t this comfortable, miraculous thing. It ca
“See, growth isn’t this comfortable, miraculous thing. It ca
पूर्वार्थ
गम हमें होगा बहुत
गम हमें होगा बहुत
VINOD CHAUHAN
3436⚘ *पूर्णिका* ⚘
3436⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल (सिर्फ़ मरते हैं)
ग़ज़ल (सिर्फ़ मरते हैं)
SURYA PRAKASH SHARMA
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
रंगों का महापर्व होली
रंगों का महापर्व होली
इंजी. संजय श्रीवास्तव
देखिए आप अपना भाईचारा कायम रखे
देखिए आप अपना भाईचारा कायम रखे
शेखर सिंह
Dr . Arun Kumar Shastri - ek abodh balak
Dr . Arun Kumar Shastri - ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खो कर खुद को,
खो कर खुद को,
Pramila sultan
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
धर्म सवैया
धर्म सवैया
Neelam Sharma
■ पाठक बचे न श्रोता।
■ पाठक बचे न श्रोता।
*प्रणय प्रभात*
अनवरत ये बेचैनी
अनवरत ये बेचैनी
Shweta Soni
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
Sampada
जिंदगी गुज़र जाती हैं
जिंदगी गुज़र जाती हैं
Neeraj Agarwal
अपात्रता और कार्तव्यहीनता ही मनुष्य को धार्मिक बनाती है।
अपात्रता और कार्तव्यहीनता ही मनुष्य को धार्मिक बनाती है।
Dr MusafiR BaithA
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
Harminder Kaur
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
पत्नी के जन्मदिन पर....
पत्नी के जन्मदिन पर....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Shriyansh Gupta
Loading...