Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2022 · 1 min read

लोधी क्षत्रिय वंश

लोधी अंश वंश अविनाशी, क्षत्रियता का सार l
सदा राष्ट्र की सेवा की हैं, न पा सका कोई पार ll
करत बात हमसे सरवर की, पीठ दिखावत जात l
आदिकाल से लेकर अबतक, करी ने हमने घात ll
हाथ मुसरिया कबहु न मारी, करै शान की बात l
हाथ पैर न हिले डुले, पर चले शान की बात ll
घरे मुसरिया ढंढे मारे, बाहर हांके ढींग l
चार आदमी जो ललकारे, नेकर जावे भींग ll
लोधी क्षत्रिय की होड़ न करियो, न करें पीठ पर वार l
वीर सिंह हिरदेशाह अवंती, जन्मे बड़े बड़े भूप सरदार ll
लोधी अंश वंश अविनाशी, क्षत्रियता का सार l
सदा राष्ट्र की सेवा की हैं, न पा सका कोई पार ll

2 Likes · 593 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तानाशाहों का हश्र
तानाशाहों का हश्र
Shekhar Chandra Mitra
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
"सागर तट पर"
Dr. Kishan tandon kranti
ह्रदय के आंगन में
ह्रदय के आंगन में
Dr.Pratibha Prakash
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
पूर्वार्थ
वो स्पर्श
वो स्पर्श
Kavita Chouhan
ज़िंदगी में बेहतर
ज़िंदगी में बेहतर
Dr fauzia Naseem shad
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
Sadhavi Sonarkar
वो खुशनसीब थे
वो खुशनसीब थे
Dheerja Sharma
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
Seema Verma
पिता
पिता
Sanjay ' शून्य'
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
Ravi Prakash
कुछ तो याद होगा
कुछ तो याद होगा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रुचि पूर्ण कार्य
रुचि पूर्ण कार्य
लक्ष्मी सिंह
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-488💐
💐प्रेम कौतुक-488💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
Keshav kishor Kumar
"साफ़गोई" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
#सम_सामयिक
#सम_सामयिक
*Author प्रणय प्रभात*
Anand mantra
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
मेरी औकात के बाहर हैं सब
मेरी औकात के बाहर हैं सब
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
The_dk_poetry
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
Loading...