Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2024 · 1 min read

लोगो खामोश रहो

लोगों खामोश रहो।
बात अपनी न कहो।
ताले लगाओ मुख पर
बात न करो दुख पर।
मरती है बेटियां मरने दो।
बलात्कार उनके होने दो
ससुराल में भी मारी जायेगी।
फिर क्या जो दुख पायेगी
लेकिन
तुम लोगों खामोश रहो

मां बाप सारी उम्र कमायेंगे
बच्चों को पढ़ायेंगे,लिखायेंगे
सारी कमाई उन पर लुटायेगे
बच्चे वृद्धाश्रम छोड़ आयेगे
कुछ नहीं होगा
लेकिन
तुम लोगों खामोश रहो।

आदमी रोज शराब पियेगा ।
नशा करेगा ,जहर बोलेगा
पत्नी को रोज पीटेगा
आखिर उसका मालिक है
लेकिन
लोगों तुम खामोश रहो
जुबां अपनी से कुछ न कहो

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
1 Like · 27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
Mahima shukla
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
Buddha Prakash
■ इस बार 59 दिन का सावन
■ इस बार 59 दिन का सावन
*प्रणय प्रभात*
शीर्षक - संगीत
शीर्षक - संगीत
Neeraj Agarwal
हीर और रांझा की हम तस्वीर सी बन जाएंगे
हीर और रांझा की हम तस्वीर सी बन जाएंगे
Monika Arora
पूछी मैंने साँझ से,
पूछी मैंने साँझ से,
sushil sarna
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पहली नजर का जादू दिल पे आज भी है
पहली नजर का जादू दिल पे आज भी है
VINOD CHAUHAN
गृहणी
गृहणी
Sonam Puneet Dubey
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
ये उदास शाम
ये उदास शाम
shabina. Naaz
"प्यार तुमसे करते हैं "
Pushpraj Anant
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
Ranjeet kumar patre
"भावनाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
वो बदल रहे हैं।
वो बदल रहे हैं।
Taj Mohammad
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
Dinesh Kumar Gangwar
निर्लोभी राम(कुंडलिया)
निर्लोभी राम(कुंडलिया)
Ravi Prakash
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
कितना प्यार
कितना प्यार
Swami Ganganiya
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
शेखर सिंह
उस देश के वासी है 🙏
उस देश के वासी है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
Swara Kumari arya
सौंदर्यबोध
सौंदर्यबोध
Prakash Chandra
कृतज्ञता
कृतज्ञता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कमीजें
कमीजें
Madhavi Srivastava
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
Loading...