Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 1 min read

“लोकतंत्र के मंदिर” में

“लोकतंत्र के मंदिर” में
“राजतंत्र का प्रतीक!!”
इसे कहते हैं “कॉम्बिनेशन।।”

■प्रणय प्रभात■

2 Likes · 1 Comment · 122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#अनुभूत_अभिव्यक्ति
#अनुभूत_अभिव्यक्ति
*Author प्रणय प्रभात*
भोर पुरानी हो गई
भोर पुरानी हो गई
आर एस आघात
मैं तो महज एक नाम हूँ
मैं तो महज एक नाम हूँ
VINOD CHAUHAN
किसका चौकीदार?
किसका चौकीदार?
Shekhar Chandra Mitra
लंगड़ी किरण (यकीन होने लगा था)
लंगड़ी किरण (यकीन होने लगा था)
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
Ranjeet kumar patre
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
manjula chauhan
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
Shweta Soni
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
बांते
बांते
Punam Pande
2658.*पूर्णिका*
2658.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सर सरिता सागर
सर सरिता सागर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
माता की चौकी
माता की चौकी
Sidhartha Mishra
छंद
छंद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
चल रे घोड़े चल
चल रे घोड़े चल
Dr. Kishan tandon kranti
कभी उसकी कदर करके देखो,
कभी उसकी कदर करके देखो,
पूर्वार्थ
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
Shashi kala vyas
*लव यू ज़िंदगी*
*लव यू ज़िंदगी*
sudhir kumar
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का दूसरा वर्ष (1960 - 61)*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का दूसरा वर्ष (1960 - 61)*
Ravi Prakash
प्रीति
प्रीति
Mahesh Tiwari 'Ayan'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
Neeraj Agarwal
"जलाओ दीप घंटा भी बजाओ याद पर रखना
आर.एस. 'प्रीतम'
आगाह
आगाह
Shyam Sundar Subramanian
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
Loading...