Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

तुम भी जनता मैं भी जनता

लेखक डॉ अरूण कुमार शास्त्री
विषय आप और आपका मतदान
भाषा हिंदी
शीर्षक तुम भी जनता मैं भी जनता

विद्या काव्य लेखन

तुम भी जनता मैं भी जनता
नाम कहीं न आयेगा

तेरी मेरी कौन सुनेगा तुरंत निकाला जायेगा।
तेरी मेरी औकात क्या ।

मानव नरमुंडों बिखरे पड़े हैं हर जगह, फिर तेरी मेरी बात क्या ।

झूठा वादा किया जाएगा डेमोक्रेसी के उत्सव में।

काम निकल जाएगा तो दुत्कारा तू ही जायेगा उत्सव में।

जश्न मनाएँगी करेंगी सभी पार्टीया भर कर जाम पर जाम लगाएंगे,
उस सफ़लता के उत्सव में।

जिक्र तुम्हारा कहीं न होगा उस आनन्द के उत्सव में।

दूध की मक्खी कान पे मच्छर जैसा दुत्कारा तू जायेगा।

तुम भी जनता मैं भी जनता* जनता ही रह जायेगा,
नाम कहीं न आयेगा।

नेता घूमें बड़ी बड़ी गाड़ी में एयरकंडीशन जिसमें होता है,

गर्मी सर्दी वर्षा धूप के मौसम का इंतज़ाम सभी ही रहता है।

तेरी मेरी बात समझ ले कोई नहीं दोहराएगा।

दूध की मक्खी कान पे मच्छर जैसा दुत्कारा तू जायेगा।

सेलीब्रेट करेंगी सभी पार्टी भर कर जाम पर जाम लगाएंगे,
उस सफ़लता के उत्सव में।

जिक्र तुम्हारा कहीं न होगा उस आनन्द के उत्सव में।

जय जय कार होएगी सबकी आंखें खोल के चलना भाईयो
दुत्कारा तू जायेगा।

तुम भी जनता मैं भी जनता जनता ही रह जायेगा इस उत्सव में।

सेलीब्रेट करेंगी सभी पार्टी भर कर जाम पर जाम लगाएंगे,
उस सफ़लता के उत्सव में।

जिक्र तुम्हारा कहीं न होगा उस आनन्द के उत्सव में।

1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
2855.*पूर्णिका*
2855.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
* ऋतुराज *
* ऋतुराज *
surenderpal vaidya
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सत्य कुमार प्रेमी
रूपमाला
रूपमाला
डॉ.सीमा अग्रवाल
*सेना वीर स्वाभिमानी (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद)*
*सेना वीर स्वाभिमानी (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद)*
Ravi Prakash
शेर
शेर
Monika Verma
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
हर दुआ में
हर दुआ में
Dr fauzia Naseem shad
"मीरा के प्रेम में विरह वेदना ऐसी थी"
Ekta chitrangini
जिंदगी में रंग भरना आ गया
जिंदगी में रंग भरना आ गया
Surinder blackpen
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जहां में
जहां में
SHAMA PARVEEN
तुम गंगा की अल्हड़ धारा
तुम गंगा की अल्हड़ धारा
Sahil Ahmad
बारिश
बारिश
विजय कुमार अग्रवाल
एक दीप हर रोज जले....!
एक दीप हर रोज जले....!
VEDANTA PATEL
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
Ravi Betulwala
"ग़ौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
Poonam Matia
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
*प्रणय प्रभात*
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
Neelam Sharma
*सजा- ए – मोहब्बत *
*सजा- ए – मोहब्बत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
Manoj Mahato
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
गर्मी और नानी का आम का बाग़
गर्मी और नानी का आम का बाग़
कुमार
Loading...