Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

लहरों पर चलता जीवन

लहरों पर चलता जीवन
~~°~~°~~°
कभी द्वंद्व रहा,कभी स्वच्छंद रहा ,
लहरों पर चलता जीवन है ।
बेफ़िक्र रहा जो हर ग़म से ,
मन उदात्त कराता वो बचपन है।

विचलित होता जीवन की थाती ,
विरह-मिलन की जब भी रुत आती।
जो अनुरक्ति में बांधे तरुणाई को ,
वो नव उमंग थिरकता यौवन है।

वृद्धापन का मतलब निर्बल काया ,
पर प्रबल अभ्यंतर मन की माया ।
पथरीले कंटक पथ पर बढ़ते सब ही ,
नित्य संघर्ष सिखाता वही जीवन है ।

तुम सोचो नित प्रातः उठकर ,
चर अचर और जड़ चेतन में जाकर।
लक्ष्य भटक गया,यदि नहीं मिला ,
तो मानो व्यर्थ ये सारा जीवन है।

कभी द्वंद्व रहा,कभी स्वच्छंद रहा ,
लहरों पर चलता जीवन है ।

मौलिक और स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १२ /०३ /२०२३
चैत्र, कृष्ण पक्ष, पंचमी ,रविवार
विक्रम संवत २०८०
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

1 Like · 394 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
हिन्दी दोहे- चांदी
हिन्दी दोहे- चांदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बहुत खुश था
बहुत खुश था
VINOD CHAUHAN
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
राखी सबसे पर्व सुहाना
राखी सबसे पर्व सुहाना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सोने का हिरण
सोने का हिरण
Shweta Soni
जो तू नहीं है
जो तू नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
अपनी सोच का शब्द मत दो
अपनी सोच का शब्द मत दो
Mamta Singh Devaa
कुंडलिया ....
कुंडलिया ....
sushil sarna
"आम"
Dr. Kishan tandon kranti
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
Rituraj shivem verma
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
शाम हुई, नन्हें परिंदे घर लौट आते हैं,
शाम हुई, नन्हें परिंदे घर लौट आते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*सा रे गा मा पा धा नि सा*
*सा रे गा मा पा धा नि सा*
sudhir kumar
लोग बस दिखाते है यदि वो बस करते तो एक दिन वो खुद अपने मंज़िल
लोग बस दिखाते है यदि वो बस करते तो एक दिन वो खुद अपने मंज़िल
Rj Anand Prajapati
ये 'लोग' हैं!
ये 'लोग' हैं!
Srishty Bansal
■ सीधी सपाट...
■ सीधी सपाट...
*प्रणय प्रभात*
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
कड़वा सच
कड़वा सच
Sanjeev Kumar mishra
अपना चेहरा
अपना चेहरा
Dr fauzia Naseem shad
मैं अपना जीवन
मैं अपना जीवन
Swami Ganganiya
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
प्रेमदास वसु सुरेखा
3633.💐 *पूर्णिका* 💐
3633.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
" मन मेरा डोले कभी-कभी "
Chunnu Lal Gupta
आँखों का कोना,
आँखों का कोना,
goutam shaw
ज़माने से मिलकर ज़माने की सहुलियत में
ज़माने से मिलकर ज़माने की सहुलियत में
शिव प्रताप लोधी
Loading...