Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

योग और नीरोग

सदियों से है भारत में योग पुरातन पद्धति,
जो करती मानव का जन कल्याण,
पुरातन ऋषि – मुनियों की यह पद्धति,
सर्वजन को नीरोगी बनाकर करती सदा निहाल।
……………….
अनुलोम – विलोम की क्रिया करने से,
मनुष्य का मन सदैव रहता प्रसन्नचित्त,
इस क्रिया को करने से मन रहता सदैव हर्षमय।
…………
इंद्रियों को वश में करने के लिए,
ध्यानयोग भी है जरूरी,
ध्यानयोग कर,
इसी ध्यान योग की मुद्रा द्वारा,
ऋषि मुनियों ने बैकुंठ में पाया,
मनचाहा स्थान।
………….
विभिन्न योग मुद्राओं की महिमा भी कम नहीं,
मुद्राओं की क्रिया करने से मन रहता शांत और स्थिर,
और,
तन रहता नीरोग और काया रहती सुंदर।
…………….
हास्य आसन के फायदे हैं हज़ार,
हास्य आसन करने से चित सदैव रहता,
प्रसन्नचित्त और चेहरे पर चमक रहती बरकरार।
……..
अब तो भारत में इस पुरातन विधा को,
जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है, और,
21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को,
जन्मदिवस के रूप मनाया जाता है।
………..
तो आओ मिलकर करें यह प्रण,
21 जून को जन- जन तक पहुंचाना है, और,
21 जून को विभिन्न योग आसन कर,
धरा और समाज को सुख समृद्ध, और,
खुशहाल बनाना है।

घोषणा – उक्त रचना मौलिक अप्रकाशित एवं स्वरचित है। यह रचना पहले फेसबुक पेज या व्हाट्स एप ग्रुप पर प्रकाशित नहीं हुई है।

डॉ प्रवीण ठाकुर
निगमित निकाय भारत सरकार,
शिमला हिमाचल प्रदेश।

Language: Hindi
2 Likes · 274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
धरती के भगवान
धरती के भगवान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शहर - दीपक नीलपदम्
शहर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
Rituraj shivem verma
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
Harminder Kaur
हिंदी दोहा बिषय- बेटी
हिंदी दोहा बिषय- बेटी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
Phool gufran
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
पूर्वार्थ
मन
मन
Sûrëkhâ Rãthí
अभी भी शुक्रिया साँसों का, चलता सिलसिला मालिक (मुक्तक)
अभी भी शुक्रिया साँसों का, चलता सिलसिला मालिक (मुक्तक)
Ravi Prakash
कर
कर
Neelam Sharma
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
सेंधी दोहे
सेंधी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
कवि रमेशराज
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
Shyam Sundar Subramanian
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
"सुख के मानक"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहावली ओम की
दोहावली ओम की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आदिवासी कभी छल नहीं करते
आदिवासी कभी छल नहीं करते
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
विपक्ष से सवाल
विपक्ष से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...