Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 1 min read

लव यू इंडिया

मस्त हवा के संग तिरंगा
जब-जब भी लहराता है।
मन मेरा मतवाला होकर,
लव यू इंडिया गाता है।
भारत माता की जय का,
कोई जयघोष लगाता है।
मन मेरा मतवाला… ।।

वेद-पुराणों को भायी है
महिमा मेरे देश की,
ऋषियों-मुनियों ने गायी है,
कीर्ति मेरे देश की,
जय जवान, जय किसान,
कोई उद्घोष लगाता है।
मन मेरा मतवाला… ।।

लेते हैं प्रण आज तिरंगा,
कभी नहीं झुकने देंंगे,
देंगे प्राणों की आहुति,
अपनी आन नहीं मिटने देंगे,
वन्देमातरम्-वन्देमातरम्,
कोई दिल से दोहराता है।
मन मेरा मतवाला… ।।

रचनाकार ~ कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत) ।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार) ।
दिनांक ~ २३/०१/२०२३

2 Likes · 2 Comments · 323 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
✍️ D. K 27 june 2023
✍️ D. K 27 june 2023
The_dk_poetry
" महक संदली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
जुदाई का एहसास
जुदाई का एहसास
प्रदीप कुमार गुप्ता
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
मुझे कृष्ण बनना है मां
मुझे कृष्ण बनना है मां
Surinder blackpen
तुम्हें प्यार करते हैं
तुम्हें प्यार करते हैं
Mukesh Kumar Sonkar
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
राजा अगर मूर्ख हो तो पैसे वाले उसे तवायफ की तरह नचाते है❗
राजा अगर मूर्ख हो तो पैसे वाले उसे तवायफ की तरह नचाते है❗
शेखर सिंह
रामजी कर देना उपकार
रामजी कर देना उपकार
Seema gupta,Alwar
कह न पाई सारी रात सोचती रही
कह न पाई सारी रात सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
प्रेमदास वसु सुरेखा
मोबाइल जब से चला, वार्ता का आधार
मोबाइल जब से चला, वार्ता का आधार
Ravi Prakash
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
gurudeenverma198
आज तो ठान लिया है
आज तो ठान लिया है
shabina. Naaz
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
आप लाख प्रयास कर लें। अपने प्रति किसी के ह्रदय में बलात् प्र
आप लाख प्रयास कर लें। अपने प्रति किसी के ह्रदय में बलात् प्र
ख़ान इशरत परवेज़
नेता खाते हैं देशी घी
नेता खाते हैं देशी घी
महेश चन्द्र त्रिपाठी
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
"हास्य कथन "
Slok maurya "umang"
"साहिल"
Dr. Kishan tandon kranti
वो बातें
वो बातें
Shyam Sundar Subramanian
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Sakshi Tripathi
SADGURU IS TRUE GUIDE…
SADGURU IS TRUE GUIDE…
Awadhesh Kumar Singh
💐अज्ञात के प्रति-59💐
💐अज्ञात के प्रति-59💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अनजान बनकर मिले थे,
अनजान बनकर मिले थे,
Jay Dewangan
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
Vishal babu (vishu)
Loading...