Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2024 · 2 min read

लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो

हमारी योग्यता पर सवाल क्यो

रख तानो को मन पर ख्यालो को खोजते है
छोड सवालो को लालची मन का पता नही
शादी पर लडको की योग्यता पर सवाल क्यो ?
बचपन से डर रख मन में
मां-बाप का सहमी नजर मे रहते है
पता नही लापरवाही से बचकर
जेब खर्ची खातिर योग्यता का भरमार
फिर हमारी योग्यता का सवाल क्यो?
बन मकर पापा के
हम नदी में छोड़ जाते हैं
दम घुटता हमारा अब सभ्यता तोड़ आते है
आवाजाही से मन पर तानो की भरमार देख
योग्यता का सवाल खड़ा क्यो ?
कही किताबी पन्नो में घुस मन की योग्यता को जगायी थी समय की रफ्तार, में हाथखर्च खातिर अपनी योग्यता भुलायी थी मां-बाप की सेवा को बोझ ना फर्ज समझ उसी लगाव पर योग्यता
को भूल उनके आशीर्वाद से अपनी योग्यता पुनः जगायी थी
फिर भी लड़की वालों की नजर में हमारी योग्यता पर सवाल
क्यो. ?
हां उनकी खातिर हमने कभी किसी का घर ना तोड़ा था
ओरो की हंसी खातिर हमने अपना मन उनसे जोड़ा था
रख पसीना मेहनत का, रख लगाव मा बाप की सेवा से
हमने उस पापा की परी को पुण्य कर्मो से जोड़ा था
काम-काज का रख ख्याल
खाली क्यों यह अब मयान होकर
तैयार नन्गी मेहनत को काटने पर,
तन तन की आवाज़ से मौत का खौफ नही
फिर भी उस पापा की परी को लाने पर
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १.
क्या बिन नौकरी उसे किचड़ में डालेंगे
पता नही उन कांटो को किचड़ तो कमल घर होता
है उसे हम अपने मन में डालेंगे।
फिर भी उस पापा की परी को
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो ?
खुद की पंचायत का पता नहीं।
सासू मां की आयत का खता कही,
पिहर में लाड़ लेकर क्यो ओरो के लाड़ को तुड़‌वाती
है।
तुमे अपनी योग्यता का पता नहीं
, फिर मेरी योग्यता पर सवाल क्यो ?
खुद‌ तो परपोसी होकर स्वपोषी की जीवन रडार करती
है।
कमी देख मेरी हाथ धोकर परपोषी बन मेरा जीवन क्यो
गड़ार करती हो।
फिर भी हमारी योग्यता पर सवाल क्यो

29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर जो आली-मकाम होता है
दर जो आली-मकाम होता है
Anis Shah
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
Surinder blackpen
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
Anand Kumar
बाल कविता मोटे लाला
बाल कविता मोटे लाला
Ram Krishan Rastogi
!! चुनौती !!
!! चुनौती !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मिले
मिले
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
कुछ लोगों के बाप,
कुछ लोगों के बाप,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
धर्म और विडम्बना
धर्म और विडम्बना
Mahender Singh
"फिर"
Dr. Kishan tandon kranti
-- अंतिम यात्रा --
-- अंतिम यात्रा --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
■क्षणिका■
■क्षणिका■
*प्रणय प्रभात*
When I was a child.........
When I was a child.........
Natasha Stephen
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
शेखर सिंह
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
*ऊन (बाल कविता)*
*ऊन (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
15- दोहे
15- दोहे
Ajay Kumar Vimal
बचपन की यादें
बचपन की यादें
Neeraj Agarwal
माँ।
माँ।
Dr Archana Gupta
जीनते भी होती है
जीनते भी होती है
SHAMA PARVEEN
कितने बेबस
कितने बेबस
Dr fauzia Naseem shad
16---🌸हताशा 🌸
16---🌸हताशा 🌸
Mahima shukla
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
Shweta Soni
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
Loading...