Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

“लक्ष्य”

बनाओ लक्ष्य कुछ ऐसा
जिस पर लोग हँसे
जिसे लोग सुनें
न चाहते हुए भी
नज़र उठाकर देखें
सोचें कुछ सीखें
और हर हाल में
आप वहाँ तक पहुँचें।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
अमेरिकन एक्सीलेंट अवार्ड प्राप्त।

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
जीवन में
जीवन में
ओंकार मिश्र
आँखें
आँखें
लक्ष्मी सिंह
अंतस्थ वेदना
अंतस्थ वेदना
Neelam Sharma
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
Arvind trivedi
सृजन
सृजन
Bodhisatva kastooriya
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
Neeraj Agarwal
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
Dr. Man Mohan Krishna
ऐसा लगता है कि
ऐसा लगता है कि
*Author प्रणय प्रभात*
धिक्कार
धिक्कार
Dr. Mulla Adam Ali
2320.पूर्णिका
2320.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
पूर्वार्थ
बीते कल की रील
बीते कल की रील
Sandeep Pande
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
पागल तो मैं ही हूँ
पागल तो मैं ही हूँ
gurudeenverma198
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"कदर"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रभात वर्णन
प्रभात वर्णन
Godambari Negi
हमें अलग हो जाना चाहिए
हमें अलग हो जाना चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
जीवन में सबसे मूल्यवान अगर मेरे लिए कुछ है तो वह है मेरा आत्
जीवन में सबसे मूल्यवान अगर मेरे लिए कुछ है तो वह है मेरा आत्
Dr Tabassum Jahan
*मैं पक्षी होती
*मैं पक्षी होती
Madhu Shah
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
कवि दीपक बवेजा
दीवानी कान्हा की
दीवानी कान्हा की
rajesh Purohit
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दर्द की मानसिकता
दर्द की मानसिकता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*** हमसफ़र....!!! ***
*** हमसफ़र....!!! ***
VEDANTA PATEL
सिर की सफेदी
सिर की सफेदी
Khajan Singh Nain
Loading...