Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं

रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
बढ़ता ताप जल वायु प्रदूषण, कैसे जान बचाऊं
नष्ट हो रहे जल जंगल जमीन, जीवन को भारी खतरा है
अंधाधुंध दोहन से मेरा, घायल कतरा कतरा है
कैसे मैं खुद रहूं सुरक्षित, कैसे तुम्हें बचाऊं
कहां से लाऊं जल पीने को, कैसे तुम्हें खिलाऊं
विश्व पृथ्वी दिवस पर बच्चों,जतन करो बच जाऊं
विश्व पृथ्वी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
सजग रहें, पर्यावरण बचाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

1 Like · 453 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
खाटू श्याम जी
खाटू श्याम जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
बेमेल शादी!
बेमेल शादी!
कविता झा ‘गीत’
*दीपावली का ऐतिहासिक महत्व*
*दीपावली का ऐतिहासिक महत्व*
Harminder Kaur
तुम अपना भी  जरा ढंग देखो
तुम अपना भी जरा ढंग देखो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
बाबागिरी
बाबागिरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
VEDANTA PATEL
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
तेरी आदत में
तेरी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
अच्छा ख़ासा तआरुफ़ है, उनका मेरा,
अच्छा ख़ासा तआरुफ़ है, उनका मेरा,
Shreedhar
न दिया धोखा न किया कपट,
न दिया धोखा न किया कपट,
Satish Srijan
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
जब ऐसा लगे कि
जब ऐसा लगे कि
Nanki Patre
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
"सेहत का राज"
Dr. Kishan tandon kranti
!! आशा जनि करिहऽ !!
!! आशा जनि करिहऽ !!
Chunnu Lal Gupta
प्रभु -कृपा
प्रभु -कृपा
Dr. Upasana Pandey
आज के युग में कल की बात
आज के युग में कल की बात
Rituraj shivem verma
23/132.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/132.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
" मेरे जीवन का राज है राज "
Dr Meenu Poonia
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी हैसियत
मेरी हैसियत
आर एस आघात
मेरा प्यारा भाई
मेरा प्यारा भाई
Neeraj Agarwal
संवेदनहीनता
संवेदनहीनता
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शायर की मोहब्बत
शायर की मोहब्बत
Madhuyanka Raj
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
Loading...