Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2023 · 1 min read

*सूरत चाहे जैसी भी हो, पर मुस्काऍं होली में 【 हिंदी गजल/ गीत

सूरत चाहे जैसी भी हो, पर मुस्काएँ होली में 【 हिंदी गजल/ गीतिका】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
सूरत चाहे जैसी भी हो, पर मुस्काएँ होली में
थोड़ा हँसकर साहिब ! अच्छा, पोज बनाएँ होली में
(2)
दहीबड़े गुँजिया थोड़े-से, कम ही खाएँ होली में
पेट आपका है फटने से, इसे बचाएँ होली में
(3)
जिससे बदला लेना उसको, सुबह-सुबह घर बुलवाकर
गरमागरम पकौड़ों के सँग, भाँग खिलाएँ होली में
(4)
लोग यही समझेंगे होली, खूब आपने खेली है
मुखड़े पर गुलाल कुछ मलकर, चित्र खिंचाएँ होली में
(5)
घर से निकलें तो गुलाल को, मुख पर खूब लपेटें खुद
पक्के रंगों से बच ऐसे, शायद जाएँ होली में
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर( उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कब तक अंधेरा रहेगा
कब तक अंधेरा रहेगा
Vaishaligoel
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
Ajay Kumar Vimal
कवि को क्या लेना देना है !
कवि को क्या लेना देना है !
Ramswaroop Dinkar
मजबूरी
मजबूरी
The_dk_poetry
दुनिया में कहीं नहीं है मेरे जैसा वतन
दुनिया में कहीं नहीं है मेरे जैसा वतन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आस्था होने लगी अंधी है
आस्था होने लगी अंधी है
पूर्वार्थ
वो किताब अब भी जिन्दा है।
वो किताब अब भी जिन्दा है।
दुर्गा प्रसाद नाग
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सिर्फ तुम
सिर्फ तुम
Arti Bhadauria
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
*धर्मप्राण श्री किशोरी लाल चॉंदीवाले : शत-शत नमन*
*धर्मप्राण श्री किशोरी लाल चॉंदीवाले : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
Phool gufran
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
चुनाव आनेवाला है
चुनाव आनेवाला है
Sanjay ' शून्य'
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आवारा बादल
आवारा बादल
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
मरीचिका
मरीचिका
लक्ष्मी सिंह
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
जब जब तुम्हे भुलाया
जब जब तुम्हे भुलाया
Bodhisatva kastooriya
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
Karishma Shah
“तुम हो तो सब कुछ है”
“तुम हो तो सब कुछ है”
DrLakshman Jha Parimal
मिलन
मिलन
Dr.Priya Soni Khare
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खो गए हैं ये धूप के साये
खो गए हैं ये धूप के साये
Shweta Soni
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...