Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2023 · 1 min read

रोना भी जरूरी है

रोना भी जरूरी है जिन्दगी के लिये।
ये कुछ बाते लिखी हमने इसी के लिये।

इंसान का दुनिया मे जन्म जब होता है,
जब तल्क न रोये वो जिन्दा नही होता है।

बिन रोये तो फिर मां ही दूध न देती है,
इसी तरह ये जिन्दगी चलती रहती है।

किसी का अपना कोई जब बिछड़ता है
गर न रोये तो वो पत्थर बन जाता है।

रोने से सभी दाग दिल के धुल जाते है,
रोते रोते हम इस दुनिया मे आते है।

हँसी की कीमत रोने के कारन होती है,
इसी लिये हर जिन्दगी घुट घुट कर रोती है।

Kaur Surinder

Language: Hindi
91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
विश्वास
विश्वास
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
*जिंदगी*
*जिंदगी*
Harminder Kaur
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
Mahendra Narayan
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
VINOD CHAUHAN
मन
मन
SATPAL CHAUHAN
ज्ञान से दीप सा प्रज्वलित जीवन हो।
ज्ञान से दीप सा प्रज्वलित जीवन हो।
PRADYUMNA AROTHIYA
किताब
किताब
Lalit Singh thakur
पीड़ादायक होता है
पीड़ादायक होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
Shweta Soni
महानिशां कि ममतामयी माँ
महानिशां कि ममतामयी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
महाभारत युद्ध
महाभारत युद्ध
Anil chobisa
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
जय हो भारत देश हमारे
जय हो भारत देश हमारे
Mukta Rashmi
कविता
कविता
Sushila joshi
#चुनावी_दंगल
#चुनावी_दंगल
*प्रणय प्रभात*
★दाने बाली में ★
★दाने बाली में ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
कुंडलिया . . .
कुंडलिया . . .
sushil sarna
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
कोई पूछे तो
कोई पूछे तो
Surinder blackpen
2467.पूर्णिका
2467.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जय माँ शारदे🌹
जय माँ शारदे🌹
Kamini Mishra
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
****तन्हाई मार गई****
****तन्हाई मार गई****
Kavita Chouhan
“जो पानी छान कर पीते हैं,
“जो पानी छान कर पीते हैं,
शेखर सिंह
*स्वच्छ गली-घर रखना सीखो (बाल कविता)*
*स्वच्छ गली-घर रखना सीखो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
**** फागुन के दिन आ गईल ****
**** फागुन के दिन आ गईल ****
Chunnu Lal Gupta
Loading...