Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 2 min read

रोटी

रोटी क्या क्या नाच नचाती
जाने क्या क्या खेल खिलाती।
रोटी रिश्ते नाते परिवार छुड़वाती
रोटी दोस्त दुश्मन से मिलवाती।।

रोटी बोटी कटवाती ,बोटी से रोटी,
रोटी से बोटी अच्छों अच्छों से जाने क्या क्या करवाती।।

रोटी भीख मंगवाती ,रोटी अपराध कराती।
रोटी घर परिवार दूर ले जाती माँ बाप का प्यार साथ छुड़वाती।।

मातृ भूमि के आँचल कि छाया से कही माया का मार्ग दिखती वासी को प्रवासी ,प्रवासी को वासी बनाती।।

रोटी रंजिस कि जड़ हर फसाद कराती ।
हाय रे रोटी जाने क्या क्या राह दिखाती।।

रोटी मान ,अपमान कराती ,रोटी कभी रुलाती कभी हँसाती।
रोटी आबरू बिकवाती रोटी करम रहम का साथ निभाती।।

रोटी कायर ,कमजोर बनाती
रोटी मजबूर ,मजदुर बनाती
तड़पती आँखों के आंसू से रोटी
अपना एहसास कराती।।

रोटी कि खातिर लड़ता इंसान
रोटी कि खातिर मरता इंसान
रोटी कि खातिर जीत इंसान।।

रोटी महँगी ,जान है सस्ती रोटी कि खातिर जान भी देता जान भी लेता है इंसान।।

दहसत ,आफत ,कहर ,झंझावात तूफ़ान झेलता इंसानएक रोटी के वास्ते
जाने क्या क्या करता है इंसान।।

भय में जीता ,भ्रम में जीता
लम्हा लम्हा घुट घुट कर जीता।
घिसट घिसट कर जीता पल पल जीत मरता इंसान।
इंसानो में जीवन का जिन्दा
विश्वाश कराती रोटी।।

कोइ मख्खन से खाता ,
किसी को सुखी भी नहीं
मिल पाती कोई कचड़े कि रोटी
खाता राजा हो या रंक सबका
एक रोटी से नाता।।

जब मिल जाती सस्ते में मिल जाती।
कीमत नहीं समझ पाता इंसान।
मेहनत ,मसक्कत पर भी नहीं
मिलती दर दर ठोकरे खाता
इंसान।।

अलग अलग रोटी की पहचान
मज़लूम कि रोटी ,किस्मत भगवान्।
तक़दीर कि रोटी ,तदवीर कि रोटी
रोजी रोटी जाने क्या क्या नाम।।

झगड़े, फसाद ,बलवा ,बवाल कराती ।
बेटी रोटी करवाती, धर्म ,धंधा ,चोरी
करवाती कभी हँसाती कभी रुलाती रोटी।।

जाने क्या क्या दौर दिखाती रोटी
रोटी रहमत ,रहम, रहीम ,करीम
खुदा भगवान्।

किस्मत कि रोटी, बैचैन करती रोटी, चैन कि रोटी रोटी से इंसान।।

मैंने पूछा माँ से इंसान बड़ा या भूख बड़ी या रोटी?
रोटी है तो भूख नहीं है,भूख नहीं है तो जिन्दा है इंसान।
रोटी पानी कि ताकत से बचपन में मैंने तुझको अपना दूध पिलाया मेरे लाल माँ का मिला जबाब।रोटी ना होती ना होती
कायनात ना होता इंसान।।

Language: Hindi
42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
है शारदे मां
है शारदे मां
नेताम आर सी
इंसान इंसानियत को निगल गया है
इंसान इंसानियत को निगल गया है
Bhupendra Rawat
उसे मलाल न हो
उसे मलाल न हो
Dr fauzia Naseem shad
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
क्रिकेटी हार
क्रिकेटी हार
Sanjay ' शून्य'
"रुपया"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं सत्य सनातन का साक्षी
मैं सत्य सनातन का साक्षी
Mohan Pandey
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
शेखर सिंह
*कोटा-परमिट का मिला ,अफसर को हथियार* *(कुंडलिया)*
*कोटा-परमिट का मिला ,अफसर को हथियार* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2557.पूर्णिका
2557.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
FUSION
FUSION
पूर्वार्थ
" उज़्र " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
राम तुम्हारे नहीं हैं
राम तुम्हारे नहीं हैं
Harinarayan Tanha
मां
मां
Manu Vashistha
गाँधी जयंती
गाँधी जयंती
Surya Barman
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
Phool gufran
■ बात बात में बन गया शेर। 😊
■ बात बात में बन गया शेर। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
ज्ञान-दीपक
ज्ञान-दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
Shreedhar
हाइकु
हाइकु
Prakash Chandra
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
'अशांत' शेखर
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब कभी प्यार  की वकालत होगी
जब कभी प्यार की वकालत होगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रुदंन करता पेड़
रुदंन करता पेड़
Dr. Mulla Adam Ali
Loading...