Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)

रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)

रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर
शोर मचाते हैं घना , बातों पर है जोर
बातों पर है जोर , खूब सपने दिखलाते
लगता जैसे ढेर , बारिशें लेकर आते
कहते रवि कविराय, शोर करके सो जाना
मेघों का यह खेल, हो गया अब रोजाना

रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा रामपुर
उत्तर प्रदेश, मोबाइल 999 761 5451

274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कलरव करते भोर में,
कलरव करते भोर में,
sushil sarna
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
Buddha Prakash
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
सकारात्मक ऊर्जा से लबरेज
सकारात्मक ऊर्जा से लबरेज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
शाम हुई, नन्हें परिंदे घर लौट आते हैं,
शाम हुई, नन्हें परिंदे घर लौट आते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#आज_का_शेर
#आज_का_शेर
*प्रणय प्रभात*
रोटी की क़ीमत!
रोटी की क़ीमत!
कविता झा ‘गीत’
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
तुम वह दिल नहीं हो, जिससे हम प्यार करें
तुम वह दिल नहीं हो, जिससे हम प्यार करें
gurudeenverma198
ख़ूबसूरत लम्हें
ख़ूबसूरत लम्हें
Davina Amar Thakral
शीर्षक - घुटन
शीर्षक - घुटन
Neeraj Agarwal
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
जिन्हें बरसात की आदत हो वो बारिश से भयभीत नहीं होते, और
जिन्हें बरसात की आदत हो वो बारिश से भयभीत नहीं होते, और
Sonam Puneet Dubey
जरूरी और जरूरत
जरूरी और जरूरत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पति
पति
लक्ष्मी सिंह
गुरु बिन गति मिलती नहीं
गुरु बिन गति मिलती नहीं
अभिनव अदम्य
पहली मुलाकात ❤️
पहली मुलाकात ❤️
Vivek Sharma Visha
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
Piyush Goel
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
Harminder Kaur
अब महान हो गए
अब महान हो गए
विक्रम कुमार
पेड़ पौधे से लगाव
पेड़ पौधे से लगाव
शेखर सिंह
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
खो गया सपने में कोई,
खो गया सपने में कोई,
Mohan Pandey
2857.*पूर्णिका*
2857.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#जगन्नाथपुरी_यात्रा
#जगन्नाथपुरी_यात्रा
Ravi Prakash
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
Loading...