Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

रेस का घोड़ा

रेस का घोड़ा

“हेलो सर!”
“हलो…।”
“क्या मेरी बात डॉ. शर्मा जी से हो रही है।”
“हाँ जी, बोल रहा हूँ। पर आप…”
“काँग्राचुलेशन्स सर। मै साहित्यिक वेबसाइट ‘ढिंचाक’ से मिस सुधा बोल रही हूँ। सर, आप इस हफ्ते ‘आथर ऑफ द वीक’ के लिए नॉमिनेट किए गए हैं।”
“अच्छा, ये क्या होता है ?”
“सर, हमारी साहित्यिक वेबसाइट की ओर से हर सप्ताह एक राइटर को ‘आथर ऑफ द वीक’ के रूप में चुना जाता है। जिस राइटर को सबसे अधिक लाइक्स और वोट मिलते हैं, उसे आकर्षक ‘ई सर्टिफिकेट’ देकर सम्मानित किया जाता है। सम्मानित राइटर को हमारे पैनल के प्रकाशकों की पुस्तकों की खरीदी करने या उनसे अपनी पुस्तकें प्रकाशित कराने पर 25% का भारी डिस्काउंट मिलता है। मैंने ईमेल के माध्यम से आपको वोटिंग लाइन की लिंक भेज दी है। सो प्लीज, आप अपने परिचितों को अधिक से अधिक संख्या में शेयर करें और उन्हें भी करने को कहें, ताकि आप ‘आथर ऑफ द वीक’ चुने जा सकें।”
“देखिए मैडम जी, मैं एक राइटर हूँ, रेस का घोड़ा नहीं।”
उन्होंने कहा और जवाब की प्रतीक्षा किए बिना फोन काट दिया।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिंता
चिंता
RAKESH RAKESH
मैं अपने अधरों को मौन करूं
मैं अपने अधरों को मौन करूं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मंहगाई  को वश में जो शासक
मंहगाई को वश में जो शासक
DrLakshman Jha Parimal
■एक_ग़ज़ल_ऐसी_भी...
■एक_ग़ज़ल_ऐसी_भी...
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे पापा आज तुम लोरी सुना दो
मेरे पापा आज तुम लोरी सुना दो
Satish Srijan
ऐ सावन अब आ जाना
ऐ सावन अब आ जाना
Saraswati Bajpai
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
नील नभ पर उड़ रहे पंछी बहुत सुन्दर।
नील नभ पर उड़ रहे पंछी बहुत सुन्दर।
surenderpal vaidya
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
ruby kumari
The Moon!
The Moon!
Buddha Prakash
आसाँ नहीं है - अंत के सच को बस यूँ ही मान लेना
आसाँ नहीं है - अंत के सच को बस यूँ ही मान लेना
Atul "Krishn"
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
* न मुझको चाह महलों की, मुझे बस एक घर देना 【मुक्तक 】*
* न मुझको चाह महलों की, मुझे बस एक घर देना 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी भर हमारा साथ रहे जरूरी तो नहीं,
जिंदगी भर हमारा साथ रहे जरूरी तो नहीं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
23, मायके की याद
23, मायके की याद
Dr Shweta sood
2794. *पूर्णिका*
2794. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"दिल का हाल सुने दिल वाला"
Pushpraj Anant
मैं तो महज वक्त हूँ
मैं तो महज वक्त हूँ
VINOD CHAUHAN
उलझनें हैं तभी तो तंग, विवश और नीची  हैं उड़ाने,
उलझनें हैं तभी तो तंग, विवश और नीची हैं उड़ाने,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आप हँसते हैं तो हँसते क्यूँ है
आप हँसते हैं तो हँसते क्यूँ है
Shweta Soni
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
CA Amit Kumar
चींटी रानी
चींटी रानी
Dr Archana Gupta
बारिश
बारिश
विजय कुमार अग्रवाल
जिंदगी में.....
जिंदगी में.....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...