Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

~रेत की आत्मकथा ~

रेत की आत्मकथा

मैं पत्थर पहाड़ की बेटी हूं,
मैं पत्थर पहाड़ की बेटी हूं।।

किस्मत की मारी, दुखियारीन,
महानदी की रेती हूं।
मैं पत्थर पहाड़ की बेटी हूं।।
उद्गम स्थल पत्थर पहाड़,
जंगल झाड़ी से टकराती।
साथ जीने,साथ मरने,
जलधारा में आती।।
अनेक जगह ठोकर खाती,
बीच भंवर में छोड़ गई।
जलधारा का किया भरोसा,
वह किस्मत मेरी फोड़ गई।।
जो भी आते ,रौंदकर जाते ,
सहन कर लेती हूं।
मैं पत्थर पहाड़ की बेटी हूं।।

नहीं ठीकाना ,मुझ अभागन की
ठोकर खुब खाती हूं।
कौन बनेगा हमदर्द मेरा,
द्वारे द्वारे जाती हूं।।

सिमेंट है यारा,मेरा प्यारा,
मेरा जीवन साथी।
वंदन करूं,नमन करूं
धरती मां के माटी।।
मैं अभागन, दुखियारीन,
महानदी की रेती हूं।
किस्मत की मारी,परद्वारी
पत्थर पहाड़ की बेटी हूं।।

माफिया आते, मुझे उठवाते
गांव शहर बिकवाते है।
गुंडागर्दी, दादागिरी कर
मालामाल हो जाते हैं।।
ग्रीष्म ऋतु में कृषक बंधु का
मैं सुंदर खेती हूं।
पत्थर पहाड़ की मैं बेटी
महानदी की रेती हूं।।

डां विजय कन्नौजे अमोली आरंग जिला रायपुर छ ग

Language: Hindi
1 Like · 396 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सहायता प्राप्त विद्यालय : हानि और लाभ*
*सहायता प्राप्त विद्यालय : हानि और लाभ*
Ravi Prakash
संत कबीरदास
संत कबीरदास
Pravesh Shinde
Exam Stress
Exam Stress
Tushar Jagawat
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
Phool gufran
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
Arghyadeep Chakraborty
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं रचनाकार नहीं हूं
मैं रचनाकार नहीं हूं
Manjhii Masti
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
AJAY AMITABH SUMAN
माँ
माँ
SHAMA PARVEEN
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
वो आदनी सस्ता या हल्का
वो आदनी सस्ता या हल्का
*Author प्रणय प्रभात*
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
Subhash Singhai
"हँसिया"
Dr. Kishan tandon kranti
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
💐अज्ञात के प्रति-91💐
💐अज्ञात के प्रति-91💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
जमाने में
जमाने में
manjula chauhan
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अपना चेहरा
अपना चेहरा
Dr fauzia Naseem shad
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
रावण की गर्जना व संदेश
रावण की गर्जना व संदेश
Ram Krishan Rastogi
Loading...