Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 1 min read

रूह की चाहत🙏

रूह की चाहत🙏
🔵🔵🔵🔵🔵

व़क्त गुज़ार रहे हैं दो रूह रुहानी
वंश देख परलोक से सुखी दुःखी
दम्भभरी बात पकड़ नादानी में
धर्म कर्म नीति ना पहचानी में

बेजान छोड़ दिया बचपन को
जिस मिट्टी में जन्म लिया खेल
कूद पढ़ कुर्सी कठिनाई से पाया
अतीत विस्मृत हो बना धमण्ड़ी

चका चौंध दुनियां की दौड़ में
भूल गया पुरखों की तपस्या
क्या सोच कष्ट उठाया था
मेरी धरती खेतों की मांटी

धिक्कार दे बहुत कुछ कह रही
पर समझ किसी को ना आ रही
खेत क्यारी देख बैठे बैठा बाबा
कृषि का एक पहल धान रोपाई

खत्म कर कृषक फसल फल पाने
सेवा कर इंतज़ार में लगा रहता है
हर्ष प्रकट करने माँ पिता परिजन
पराये मददगार सभी साथ बैठ

दाल भात खीर पूड़ी पूड़ी बना
बैल हलधर की पूजा करता है
कितना मधुर मधु प्रेम सुहाना
निश्चल यारी याराना की नजराना

समय चक्र में टूट बिखर पड़ती
द्वेष कपट घमण्ड में अनजाना
अपने अपार मस्ती से मुस्काना
सोच विचार करें क्या …….. ?
यही जीवन जीना है ……….. ?
♦️♦️♦️♦️♦️♦️♦️♦️
तारकेशवर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
1 Like · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
शाकाहारी बने
शाकाहारी बने
Sanjay ' शून्य'
New Beginnings. 🌻
New Beginnings. 🌻
पूर्वार्थ
करवा चौथ@)
करवा चौथ@)
Vindhya Prakash Mishra
दासी
दासी
Bodhisatva kastooriya
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
Paras Nath Jha
मययस्सर रात है रोशन
मययस्सर रात है रोशन
कवि दीपक बवेजा
"मोहब्बत"
Dr. Kishan tandon kranti
■ जाने कहाँ गए वो दिन!!
■ जाने कहाँ गए वो दिन!!
*प्रणय प्रभात*
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
Dr fauzia Naseem shad
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
*किसान*
*किसान*
Dushyant Kumar
*
*"बसंत पंचमी"*
Shashi kala vyas
देख इंसान कहाँ खड़ा है तू
देख इंसान कहाँ खड़ा है तू
Adha Deshwal
घुंटन जीवन का🙏
घुंटन जीवन का🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तन्हाई
तन्हाई
ओसमणी साहू 'ओश'
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
gurudeenverma198
चौपई /जयकारी छंद
चौपई /जयकारी छंद
Subhash Singhai
स्त्री का सम्मान ही पुरुष की मर्दानगी है और
स्त्री का सम्मान ही पुरुष की मर्दानगी है और
Ranjeet kumar patre
जीत मुश्किल नहीं
जीत मुश्किल नहीं
Surinder blackpen
विवाह
विवाह
Shashi Mahajan
भटक रहे अज्ञान में,
भटक रहे अज्ञान में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सब्र रख
सब्र रख
VINOD CHAUHAN
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
Neelam Sharma
हमें अलग हो जाना चाहिए
हमें अलग हो जाना चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संस्कार का गहना
संस्कार का गहना
Sandeep Pande
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
Loading...