Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

रुसवा दिल

जब से मेरी बातों पर तूने मुस्कुराना छोड़ दिया
तब से मैंने खुद पर भी इतराना छोड़ दिया

जब से मेरे कदमों से तूने कदम मिलाना छोड़ दिया
तब से मेरे कदमों ने खुद से चलना चलाना छोड़ दिया

जब से मेरे गीतों पर तूने गुनगुनाना छोड़ दिया
तब से मैंने लब्ज़ों को अल्फ़ाज़ बनाना छोड़ दिया

जब से मेरी नीदों में तूने आना जाना छोड़ दिया
तब से मेरी पलकों ने सपनें बुलाना छोड़ दिया

जब से तेरे होंठों ने मुझको बुलाना छोड़ दिया
तब से मेरे कानों से सुनना सुनाना छोड़ दिया

जब से मेरी यादों को तूने अपना बनाना छोड़ दिया
तब से तेरी गलियों में मैंने आना जाना छोड़ दिया

जब से मेरे इस दिल को तूने अपना बनाना छोड़ दिया
तब से मेरी धड़कन ने दिल मे आना जाना छोड़ दिया ।

!! आकाशवाणी !!

Language: Hindi
66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
हर फूल गुलाब नहीं हो सकता,
हर फूल गुलाब नहीं हो सकता,
Anil Mishra Prahari
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
नवरात्रि-गीत /
नवरात्रि-गीत /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
Dr. Man Mohan Krishna
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
Dr Archana Gupta
3033.*पूर्णिका*
3033.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
है आँखों में कुछ नमी सी
है आँखों में कुछ नमी सी
हिमांशु Kulshrestha
बंदरा (बुंदेली बाल कविता)
बंदरा (बुंदेली बाल कविता)
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
When we constantly search outside of ourselves for fulfillme
When we constantly search outside of ourselves for fulfillme
Manisha Manjari
ज़िंदगी इम्तिहान
ज़िंदगी इम्तिहान
Dr fauzia Naseem shad
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
"सूनी मांग" पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
सत्य कुमार प्रेमी
लौटना पड़ा वहाँ से वापस
लौटना पड़ा वहाँ से वापस
gurudeenverma198
A Donkey and A Lady
A Donkey and A Lady
AJAY AMITABH SUMAN
*चुन मुन पर अत्याचार*
*चुन मुन पर अत्याचार*
Nishant prakhar
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
बालबीर भारत का
बालबीर भारत का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हर बार धोखे से धोखे के लिये हम तैयार है
हर बार धोखे से धोखे के लिये हम तैयार है
manisha
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
वृंदावन की यात्रा (यात्रा वृत्तांत)
वृंदावन की यात्रा (यात्रा वृत्तांत)
Ravi Prakash
"जल"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी से मत कहना
किसी से मत कहना
Shekhar Chandra Mitra
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
SURYA PRAKASH SHARMA
दो रंगों में दिखती दुनिया
दो रंगों में दिखती दुनिया
कवि दीपक बवेजा
फेसबुक गर्लफ्रेंड
फेसबुक गर्लफ्रेंड
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...