Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Feb 2024 · 1 min read

रिसाइकल्ड रिश्ता – नया लेबल

सच्चा रिश्ता – प्रेम भाव
अब ऑर्गेनिक हो गया
मिलता भी है बड़ा मंहगा
( ग़र ठगे नहीं गये तो)
.
पर आकर्षक पैक में
कॉन्टामिनेटेड रिश्ते
नये – नये लेबल में
सस्ते भाव मिलते हैं
.
लेबल पर लिखा
“रिश्ता मज़बूत और टिकाऊ है”
बस मार्केटिंग गिमिक है
एक्सपाइरी की गारंटी नहीं
पैक खुलने तक ही ख़ूबसूरत है
.
लिखा होता ग़र
“सिंगल यूज ऑनली”
और बिकता
“सोडावाटर की बोतल में बंद”
तो शायद आज के युग में
ख़रीददार होते हज़ार
.
आज रिश्ते सोडावाटर की तरह
खुलते हैं उफ़ान से
फिर एक अंतराल में
गैस ख़त्म – क़िस्सा ख़त्म
.
ख़ाली बोतल की तरह
इधर-उधर लुढ़कते रिश्ते
और फिर नये लेबल में
वही बोतल –
.
कोई और समझदार ख़रीददार
जानता है –
रिसाइक्लड है रिश्ता
पर उनको कहाँ निभाना है
यूज करना है और
आगे बढ़ जाना है
.
सच है – हज़म भी होता है देर से

~ अतुल “कृष्ण”

63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
विश्वेश्वर महादेव
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
साहित्य गौरव
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आग और पानी 🔥🌳
आग और पानी 🔥🌳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
Shweta Soni
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
Harminder Kaur
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
Mamta Singh Devaa
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
Kirti Aphale
वर दो नगपति देवता ,महासिंधु का प्यार(कुंडलिया)
वर दो नगपति देवता ,महासिंधु का प्यार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैं तो महज शराब हूँ
मैं तो महज शराब हूँ
VINOD CHAUHAN
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
Sonu sugandh
नए वर्ष की इस पावन बेला में
नए वर्ष की इस पावन बेला में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रकृति का बलात्कार
प्रकृति का बलात्कार
Atul "Krishn"
दिल का रोग
दिल का रोग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*📌 पिन सारे कागज़ को*
*📌 पिन सारे कागज़ को*
Santosh Shrivastava
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मन की प्रीत
मन की प्रीत
भरत कुमार सोलंकी
मैं भारत का जवान हूं...
मैं भारत का जवान हूं...
AMRESH KUMAR VERMA
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
"औरत ही रहने दो"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
शेखर सिंह
अंधविश्वास का पोषण
अंधविश्वास का पोषण
Mahender Singh
Loading...