Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

रिश्ते-नाते

वह रिश्ते-नाते , जो सबको भाते
दूर हैं जो अपने , पास उनको बुलाते
स्वागत सत्कार करें , घर में जो भी आते
नैनों में ओम अश्रु , भर आए जाते-जाते
ऐसी खूबियां को कहते , लोग नहीं अघाते

ओमप्रकाश भारती ओम्
बालाघाट , मध्य प्रदेश

Language: Hindi
41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!...............!
!...............!
शेखर सिंह
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
विमला महरिया मौज
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
तैराक हम गहरे पानी के,
तैराक हम गहरे पानी के,
Aruna Dogra Sharma
*सजा- ए – मोहब्बत *
*सजा- ए – मोहब्बत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खेतों में हरियाली बसती
खेतों में हरियाली बसती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
🌺प्रेम कौतुक-201🌺
🌺प्रेम कौतुक-201🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
Rashmi Ranjan
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"महान ज्योतिबा"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता
पिता
sushil sarna
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन की पीड़ा क
मन की पीड़ा क
Neeraj Agarwal
3162.*पूर्णिका*
3162.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
Dr MusafiR BaithA
आज का चिंतन
आज का चिंतन
निशांत 'शीलराज'
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
Pakhi Jain
दुर्बल कायर का ही तो बाली आधा वल हर पाता है।
दुर्बल कायर का ही तो बाली आधा वल हर पाता है।
umesh mehra
स्कूल चलो
स्कूल चलो
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कविता-हमने देखा है
कविता-हमने देखा है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उच्च पदों पर आसीन
उच्च पदों पर आसीन
Dr.Rashmi Mishra
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
■ असलियत
■ असलियत
*Author प्रणय प्रभात*
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
Mahendra Narayan
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
Vishal babu (vishu)
सुनो स्त्री,
सुनो स्त्री,
Dheerja Sharma
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
Jyoti Khari
कमी नहीं थी___
कमी नहीं थी___
Rajesh vyas
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
पूर्वार्थ
Loading...