Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

उलझा रिश्ता

उलझा धागा तो फिर भी सुलझ जाता है
मगर! उलझे रिश्ते कहां सुलझ पाते है
जब पड़ जाए गांठ किसी रिश्ते में तो
वो रिश्ता फिर कहां पहले सा रह पाता है
मानती हूं, रिश्ता छूटता तो नहीं
मगर! वो पुराना वक्त छूट जाता है
वो खुबसुरत पुरानी यादें छूट जाती हैं
और छूट जाता है साथ अपनों का
गर कुछ शेष रह जाता है, तो वो है गांठ
जो रिश्ते के मध्य में आई थी,
जो दो लोगों के अलगाव का कारण बनी थी
तब सारे जतन फीके पड़ जाते है
जो एक वक्त रिश्ते को संजोने में किए थे
और ताल्लुक फिर धीरे धीरे टूट जाते है
खास सा वो रिश्ता
जिंदगी का एक किस्सा बनकर रह जाता है।

“गहरे रिश्ते भी टूट जाते है पलभर में, अहम ज्यादा हो अगर पकड़ से।” इसलिए रिश्ते को संजोकर रखना सीखे, उनकी कद्र करें। कामयाबी या अहम के गुमान में किसी भी रिश्ते का कभी अपमान ना करे। क्यूंकि जिंदगी में रिश्ते आगे आने वाली हर उपलब्धि से कहीं ज्यादा कीमती होते है। रिश्ते अनमोल होते है।

– सुमन मीना (अदिति)

1 Like · 174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
Seema Verma
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
Rakesh Bahanwal
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
फिक्र (एक सवाल)
फिक्र (एक सवाल)
umesh mehra
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
भाईदूज
भाईदूज
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
अनिल कुमार
बेवफा
बेवफा
RAKESH RAKESH
■एक शेर और■
■एक शेर और■
*Author प्रणय प्रभात*
Khuch wakt ke bad , log tumhe padhna shuru krenge.
Khuch wakt ke bad , log tumhe padhna shuru krenge.
Sakshi Tripathi
आखिर शिथिलता के दौर
आखिर शिथिलता के दौर
DrLakshman Jha Parimal
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
गुरूता बने महान ......!
गुरूता बने महान ......!
हरवंश हृदय
💐प्रेम कौतुक-263💐
💐प्रेम कौतुक-263💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फ़ितरत-ए-साँप
फ़ितरत-ए-साँप
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
Shashi kala vyas
"ये कविता ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
3012.*पूर्णिका*
3012.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
उड़ कर बहुत उड़े
उड़ कर बहुत उड़े
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
-- प्यार --
-- प्यार --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
संघर्ष
संघर्ष
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
द्रोण की विवशता
द्रोण की विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
Loading...