Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

*रिवाज : आठ शेर*

रिवाज : आठ शेर
————————————–
(1)
रिवाजों में बसी है याद ,पुरखों के जमाने की
रिवाजों से पता चलता है ,क्या इतिहास था अपना
(2)
पराए घर से आई हैं, मगर हमसे कहीं ज्यादा
हमारे घर की रस्में, सास-बहुऍं ये समझती हैं
(3)
अगर सारे रिवाजों को ,लगा दी आग तुमने तो
रिवाजों की जरूरत फिर भी होगी, तुम बनाओगे
(4)
शुरू जब भी हुए होंगे, तो होंगे खूबसूरत ही
रिवाजों को बड़े अच्छे दिमागों ने बनाया था
(5)
रिवाजों को हमें जीवन में अपनाना तो है लेकिन
अगर ये पैर की बेड़ी हैं तो फिर छोड़‌ना भी है
(6)
रिवाजों में रखा क्या है, निभे तो तुम निभा लेना
ये वरना खत्म होने के लिए ही रोज बनते हैं
(7)
रिवाजों में नियम जोड़ें ,चलो यह आज ही से हम
हमें हर वक्त हँसना है, हमें हर वक्त मुस्काना
(8)
मधुर मुस्कान से तुमने मुझे, मैने तुम्हें देखा
रिवाजों में रखा क्या है, चलो लो हो गई शादी
————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
ज़ख्म पर ज़ख्म अनगिनत दे गया
ज़ख्म पर ज़ख्म अनगिनत दे गया
Ramji Tiwari
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
अपनाना है तो इन्हे अपना
अपनाना है तो इन्हे अपना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"अपेक्षा"
Yogendra Chaturwedi
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
गूंजेगा नारा जय भीम का
गूंजेगा नारा जय भीम का
Shekhar Chandra Mitra
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
Anand Kumar
इंसानियत का एहसास
इंसानियत का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
Shinde Poonam
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
राम के नाम की ताकत
राम के नाम की ताकत
Meera Thakur
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"मोल"
Dr. Kishan tandon kranti
इंद्रधनुषी प्रेम
इंद्रधनुषी प्रेम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सफर की यादें
सफर की यादें
Pratibha Pandey
3226.*पूर्णिका*
3226.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
शेखर सिंह
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
डॉ० रोहित कौशिक
कुछ लोगों का जीवन में रुकना या चले जाना सिर्फ किस्मत तय करती
कुछ लोगों का जीवन में रुकना या चले जाना सिर्फ किस्मत तय करती
पूर्वार्थ
बेटियां।
बेटियां।
Taj Mohammad
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
Chunnu Lal Gupta
रस का सम्बन्ध विचार से
रस का सम्बन्ध विचार से
कवि रमेशराज
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
Kumar lalit
ममता का सागर
ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
प्रीत को अनचुभन रीत हो,
प्रीत को अनचुभन रीत हो,
पं अंजू पांडेय अश्रु
Loading...