Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2016 · 1 min read

“राह सत्य की”

राह सत्य की जाऊ में ? जो हो सो हो..
हर पल हर दम आती हे राह जीवन में दो

एक राह हे सीधी सादी लगती सबको अच्छी
एक राह की ‘कठिन’ डगर, हे मगर वो सच्ची
‘चट मंगनी पट बियाह’ में मत अपने को खो,
राह सत्य की जाऊ में ? जो हो सो हो..

जल्दी से जो मिल जाये आनंद रहे वो थोड़ा
सम्बन्धो को पीछे छोड़ आँख बंद कर दौड़ा
पाप के इस बहते जल में मत अपने को धो,
राह सत्य की जाऊ में ? जो हो सो हो..

हरपल हरदम रहता हे बस ‘डर’ का साया
मन को विचलाती रेहती ये सभी मोह माया
“दुःख” सबका बाटकर चेन की नींद तु सो,
राह सत्य की जाऊ में ? जो हो सो हो..

सब दुखो का एक ही हल नही होता है पैसा
हर हाल में खुश रहकर बनो महात्मा जैसा
अन्याय अत्याचार से लड़ आशीष सबकी लो,
राह सत्य की जाऊ में ? जो हो सो हो..
@अंकुर…..

Language: Hindi
286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■दोहा■
■दोहा■
*Author प्रणय प्रभात*
पश्चिम हावी हो गया,
पश्चिम हावी हो गया,
sushil sarna
नववर्ष
नववर्ष
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सज़ल
सज़ल
Mahendra Narayan
शादी   (कुंडलिया)
शादी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
RAKESH RAKESH
तब मैं कविता लिखता हूँ
तब मैं कविता लिखता हूँ
Satish Srijan
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कुछ तो बात है मेरे यार में...!
कुछ तो बात है मेरे यार में...!
Srishty Bansal
ज़िंदगी क्या है ?
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंजामे-इश्क मेरे दोस्त
अंजामे-इश्क मेरे दोस्त
gurudeenverma198
शेर
शेर
Monika Verma
सबको नित उलझाये रहता।।
सबको नित उलझाये रहता।।
Rambali Mishra
अभिमान
अभिमान
Shutisha Rajput
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
Neelam Sharma
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
मैं अर्जुन हूं
मैं अर्जुन हूं
Shriyansh Gupta
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
भीष्म देव के मनोभाव शरशैय्या पर
भीष्म देव के मनोभाव शरशैय्या पर
Pooja Singh
2958.*पूर्णिका*
2958.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
मा भारती को नमन
मा भारती को नमन
Bodhisatva kastooriya
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
Loading...