Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

राह कठिन है राम महल की,

राह कठिन है राम महल की,
अति श्रम करके है पाना।
भले मूर्ति की पूजा उत्तम,
पर उससे भी आगे जाना।

हनुमत को प्रसाद चढ़ाया,
दुर्गा देवी मन से ध्याया।
माधव का खुब भोग लगाया,
राम कथा भी मैंने गाया।

व्रत उपवास धूप बत्ती कर
मैंने भी प्रतिमा पूजा है।
पर मन में लगता था जैसे,
हरि पथ कहीं और दूजा है।

जैसे गुरुकुल जाए बच्चा,
मूर्ति की पूजा पहली कक्षा।
भक्ति में और आगे बढ़ना है,
पौड़ी पौड़ी पर चढ़ना है।

मानव तन है सच्चा मंदिर,
राम रमे है जिसके अंदर।
कैसे करनी हरि भक्ती है,
सतगुर कोल सही युक्ती है।

कर भक्ति गुरु दीक्षा पाकर,
बिन कौल तू बन जा चाकर।
सतगुर दर्शन और सत्संगा,
गुरु सेवा से मन हो चंगा।

सुमिरन करो गुरु को ध्यायो,
भजन करो चित चानन पाओ।
जिस दिन सतगुर होगा राजी,
चेला उस दिन जीते बाज़ी।

घण्टा बजे होय उजियारा,
हरि ने स्वयं आरती बारा।
सुन्न समाधी लग जायेगी,
धुन हरि कीरत खुद गायेगी।

हो जाएगी भक्ती पूरी,
बने आत्मा हरि पग धूरी।
मिल जायेगा परम ठिकाना।
मिटे जीव का आना जाना।

1 Like · 72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
Rj Anand Prajapati
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रभु संग प्रीति
प्रभु संग प्रीति
Pratibha Pandey
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
Dr fauzia Naseem shad
Really true nature and Cloud.
Really true nature and Cloud.
Neeraj Agarwal
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नारायणी
नारायणी
Dhriti Mishra
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
Jogendar singh
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
*Author प्रणय प्रभात*
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
ruby kumari
ज़िन्दगी और प्रेम की,
ज़िन्दगी और प्रेम की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
युग युवा
युग युवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*अध्याय 8*
*अध्याय 8*
Ravi Prakash
गज़ल बन कर किसी के दिल में उतर जाता हूं,
गज़ल बन कर किसी के दिल में उतर जाता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
gurudeenverma198
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
यादों के संसार की,
यादों के संसार की,
sushil sarna
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
Ram Krishan Rastogi
मैं और मेरी फितरत
मैं और मेरी फितरत
लक्ष्मी सिंह
मां
मां
Dr Parveen Thakur
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
शेखर सिंह
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
VINOD CHAUHAN
Loading...