Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2023 · 1 min read

राष्ट्रीय युवा दिवस

राष्ट्रीय युवा दिवस –

परमहंस का हंस
राम कृष्ण का अंश
माँ काली का वरदान
नरेन विवेकानंद ।।

सन्यासी युवा
उत्साह तेज सत्य
सनातन प्रखर निखर
पुंज प्रकाश तेज ।।

बैरागी काया
मोह व्याधि से मुक्त
निर्मल काया
सन्यास धर्म कि
महिमा गरिमा ।।

जन्म जीवन के
मौलीक मूल्यों का
व्यख्याता गुरु शिष्य
परम्परा युग जागृति
जागरण युवा ओजस्वी।।

राष्ट्र धर्म कि
मौलिकता मानवता कि
व्यख्या जन्म जीवन
सद्कर्म युवा प्रेरणा
पराक्रम ज्ञान विज्ञान
अभिमान ।।

बुद्धि विवेक का
नरेन आनंद ज्ञान
मर्मज्ञ
सन्यासी चोला
निर्मल काया
चमत्कार चर्मोत्कर्ष ।।

युवा उल्लास
युग छाया
पश्चिम बंगाल की
पावन भूमि
दक्षिण काली
आराध्य परम हंस का
हंस स्वछंद ।।

आवनी अम्बर का
सम्मोहन सौम्यता कि
भव्यता सिंह शौर्य का नाद
युवा चेतना का चैतन्य नरेन विवेका शंखनाद।।

राष्ट्र भक्ति
जन सेवा
समय काल का
परिभाषाक
दिशा दृष्टि
युग युवा उमंग
अभिमान
स्वामी विवेका नन्द
प्रणाम।।

नन्दलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर गोरखुर उत्तर प्रदेश।।

Language: Hindi
116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
बन जाने दो बच्चा मुझको फिर से
बन जाने दो बच्चा मुझको फिर से
gurudeenverma198
एस. पी.
एस. पी.
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
देश भक्ति
देश भक्ति
Sidhartha Mishra
बताता कहां
बताता कहां
umesh mehra
"ढिठाई"
Dr. Kishan tandon kranti
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
Ajay Kumar Vimal
गाँव का दृश्य (गीत)
गाँव का दृश्य (गीत)
प्रीतम श्रावस्तवी
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
साहस
साहस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
अरशद रसूल बदायूंनी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कविता -
कविता - "बारिश में नहाते हैं।' आनंद शर्मा
Anand Sharma
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
9) “जीवन एक सफ़र”
9) “जीवन एक सफ़र”
Sapna Arora
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
मेरा सोमवार
मेरा सोमवार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दोहे तरुण के।
दोहे तरुण के।
Pankaj sharma Tarun
#अद्भुत_प्रसंग
#अद्भुत_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरे वश में नहीं है, तुम्हारी सजा मुकर्रर करना ।
मेरे वश में नहीं है, तुम्हारी सजा मुकर्रर करना ।
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ज़िंदगी आईने के
ज़िंदगी आईने के
Dr fauzia Naseem shad
Loading...