Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं…

मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

पग राम के लिए ही मैं बढ़ाऊंगी,
दीप उनके ही नाम की जलाऊंगी,
राष्ट्र‌ समूचा हुआ है राममय,
मैं राम में ही रम जाऊंगी,

राम जैसा ना हुआ है, ना कोई होगा,
मैं अपने राम में ही धुन जाऊंगी,
गीत राम की ही मैं गाऊंगी,
संगीत राम की ही मैं बजाऊंगी,

विराज रहे मेरे प्रभु, अपने अंगना में,
मैं अंगना में ही ठुमका लगाऊंगी,
राम-राम बोल के मैं झुमूंगी,
झूम-झूम कर राम की हो जाऊंगी,

राम आदर्श हैं, राम गौरव हैं,
राम भारत की सभ्यता के सौरभ हैं,
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं,
राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं,

राम विश्व के ऐसे महापुरुष,
दूजा ना नाम कोई ऐसा, राम ऐसे हैं,
राम नाम ही जीवन का सब सार है,
राम नाम ही जीवन का आधार है।

74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदगी क्या है ?
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
गुरुकुल शिक्षा पद्धति
गुरुकुल शिक्षा पद्धति
विजय कुमार अग्रवाल
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
हवाएं रुख में आ जाएं टीलो को गुमशुदा कर देती हैं
हवाएं रुख में आ जाएं टीलो को गुमशुदा कर देती हैं
कवि दीपक बवेजा
यही बताती है रामायण
यही बताती है रामायण
*Author प्रणय प्रभात*
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
Sandeep Kumar
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
फूल
फूल
Pt. Brajesh Kumar Nayak
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
Ravi Prakash
"बीज"
Dr. Kishan tandon kranti
शिवरात्रि
शिवरात्रि
Satish Srijan
3127.*पूर्णिका*
3127.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
Phool gufran
स्मृतियाँ  है प्रकाशित हमारे निलय में,
स्मृतियाँ है प्रकाशित हमारे निलय में,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
उर्वशी की ‘मी टू’
उर्वशी की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
gurudeenverma198
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
शेखर सिंह
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
Shweta Soni
पितरों के लिए
पितरों के लिए
Deepali Kalra
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
dks.lhp
प्रकृति और तुम
प्रकृति और तुम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
💐प्रेम कौतुक-378💐
💐प्रेम कौतुक-378💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोरोंना
कोरोंना
Bodhisatva kastooriya
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
Rajesh
नया सवेरा
नया सवेरा
नन्दलाल सुथार "राही"
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
Loading...