Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा

अपने को राम भक्त कहने वाले
कुछ लोग कहते हैं
कि राम हिन्दुओं के हैं एकमात्र समग्र
विधर्मी सलमान खान नहीं कर सकते सिनेमा
राम के वेश में
यही क्या कम है कि
वे रह पा रहे हैं राम के देश में

हे मर्यादा पुरुषोत्तम
शंबूक वध मार्का यश वाले
बेशक आज फिर किसी ने
आप-रचित मर्यादा को
चाहे अचाहे हाथ लगाया है
तब था दलित आज विधर्मी आया है

लेकिन आ गया है अब
इक्कीसवीं सदी का विज्ञान समय
जहां अंधधर्म भावना नहीं
तर्कबलित मानववाद ही काम करेगा
क्या इसीलिए इस हादसे पर
पड़ पशोपेश में
आपने साध लिया मौन है !

2007

Language: Hindi
229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
2760. *पूर्णिका*
2760. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बितियाँ बात सुण लेना
बितियाँ बात सुण लेना
Anil chobisa
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
Sandeep Kumar
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
कवि दीपक बवेजा
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
Rekha khichi
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
आईना
आईना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
#एक_स्तुति
#एक_स्तुति
*Author प्रणय प्रभात*
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सत्य कुमार प्रेमी
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
डॉ.सीमा अग्रवाल
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
विनोद सिल्ला
"कैसे सबको खाऊँ"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बदलते रिश्ते
बदलते रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Sakshi Tripathi
मां के आँचल में
मां के आँचल में
Satish Srijan
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
" माँ का आँचल "
DESH RAJ
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
surenderpal vaidya
गुलाब-से नयन तुम्हारे
गुलाब-से नयन तुम्हारे
परमार प्रकाश
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
पूर्वार्थ
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कौन सोचता है
कौन सोचता है
Surinder blackpen
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
ईश ......
ईश ......
sushil sarna
Loading...