Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2023 · 1 min read

*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*

रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)
🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️
1
रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार
उपनिषदों का मर्म यह, चार वेद का सार
2
कथा कह रहे राम की, राम-नाम का मर्म
तुलसीदास बता रहे, मानव का शुभ कर्म
3
सच्चाई से कब डिगे, वन में जाते राम
मानस का संदेश यह, चलो पंथ निष्काम
4
तुलसी ने कविता लिखी, सुंदर काव्य अनूप
धन्य-धन्य मानस लिखा, सिया राम का रूप
5
रामचरितमानस लिखा, अद्भुत ग्रंथ महान
धन्यवाद तुलसी तुम्हें, धन्य-धन्य अवदान
6
दोहा चौपाई लिखे, लिखे सोरठा छंद
मानस-तुलसी की चमक, होगी कभी न मंद
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

751 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
सनातन संस्कृति
सनातन संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
"फ़िर से तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
*****हॄदय में राम*****
*****हॄदय में राम*****
Kavita Chouhan
Growth requires vulnerability.
Growth requires vulnerability.
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
जीवन
जीवन
sushil sarna
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
*प्रणय प्रभात*
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ग़ज़ल (चलो आ गयी हूँ मैं तुम को मनाने)
ग़ज़ल (चलो आ गयी हूँ मैं तुम को मनाने)
डॉक्टर रागिनी
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"अवध में राम आये हैं"
Ekta chitrangini
(कहानी)
(कहानी) "सेवाराम" लेखक -लालबहादुर चौरसिया लाल
लालबहादुर चौरसिया लाल
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
अपनी हीं क़ैद में हूँ
अपनी हीं क़ैद में हूँ
Shweta Soni
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"सोचिए"
Dr. Kishan tandon kranti
वर्दी (कविता)
वर्दी (कविता)
Indu Singh
मतलब हम औरों से मतलब, ज्यादा नहीं रखते हैं
मतलब हम औरों से मतलब, ज्यादा नहीं रखते हैं
gurudeenverma198
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!
हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!
Diwakar Mahto
*एक अखंड मनुजता के स्वर, अग्रसेन भगवान हैं (गीत)*
*एक अखंड मनुजता के स्वर, अग्रसेन भगवान हैं (गीत)*
Ravi Prakash
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्रेम के जीत।
प्रेम के जीत।
Acharya Rama Nand Mandal
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
Sarfaraz Ahmed Aasee
Loading...