Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 5 min read

“रामगढ़ की रानी अवंतीबाई लोधी”

आज लेखनी फिर से लिख दे तू गाथा बलिदानों की।
जिये मरे जो देश के खातिर ऐसे वीर ज़बानों की।
मिली किसी को जेल यातना मिली किसी को फांसी थी।
वीर शहीदो की यह धरती जिनको काबा काशी थी।
इन्ही शहीदों की खडी पंक्ति मे वीर अबंती रानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।1

यह मिट्टी औरो को मिट्टी मुझको तो यह चंदन है।
यह है माथे का अबीर इसका बदन अभिनंदन है।
कितने सुहागो का सिंदूर उनके होठो की लाली है।
कितनी माताओं का ममत्व यह मुखडो की हरियाली है।
मुर्दा दिल में भी भर देती फिर जोश जबानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।2

श्रद्धा सुमन तुम्हे अर्पित रानी इनको स्वीकार करो।
और नही कुछ ला पाया तो इनको अंगीकार करो।
और तुम्हारी गाथा रानी रामायण से भारी है।
स्वतंत्रता मे योगदान का सदा देश आभारी है।
मध्य देश की हर जबान पर जिसकी अमिट कहानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।3

जुझार सिंह था नाम पिता का मनकेडी रहने बाली।
कुंदन तपता जभी आग मे और निखरती है लाली।
बन मे खिले हुए सुमनो की सुरभि फैलती चारो ओर।
अंधकार को दूर भगाती एक किरण पाकर के भोर।
लोधि बंश की वह कुलभूषण रामगढ़ की रानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।4

मध्य देश के हर राजा को रानी ने चिट्ठी भेजी।
बैठ न रहना चिट्ठी पाकर राज हटाना अंग्रेजी।
और तुम्हारी चुप्पी भैया नमक छिडकती घावों में।
शक्ति नही तो भेज रही हूं चुडियां पहनो बाहो मे।
डूबो रखी है देश की नैया हम सबकी नादानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।6

सत्य अहिंसा का अनुपालन सदा संत परिपाटी।
पर मूर्खता की औषधि होती सुनो मित्र वर लाठी।
जब तक मन मे प्राण चेतना मन मे जब तकबाकी।
भारत मां को नही बंदिनी रख सकता है पापी।
बिजली सी भर जाती तन मे सुन सुन उसकी बाणी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।7

सागर सी दिल की गहराई थी पर्बत सी दृढ़ आशा थी।
और असम्भव शब्द कभी भी रही न जिसकी भाषा थी।
वीर शिवाजी से सीखा था तूफानों से टकराना।
राणा जी जिसने सीखा घास रोटियों का खाना।
मुर्दा दिल मे भर देती फिर से जोश जबानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।8

निकल पडी लेकर तलबारे वीर जबानो की टोली।
मां बहनो ने इनको भेजा कर माथे कुंकुम रोली।
तोप तंमंचा तलबारों से फिर खेली रण मे होली।
जय 2 भारत मां की बोली फिर जय रानी मां की बोली।
बक्त पडा जब आज देश पर कीमत उन्हे चुकानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।9

पुत्रों को दासी पर सौपा रोकर के रानी बोली।
मातृभूमि के लिए रचानी मुझको जीबन की होली।
सुतो समझना न थी माता मै समझूंगी न थे बेटे।
मेरे पथ ही तुम चलना अपने जीबन के रहते।
मां बेटो के रुद्ध कंठ थे और सिसकती बाणी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।10

जय लोधेश्वर के मंत्रो से धधक उठी रण की ज्वाला।
वीर सिपाही वीर भेष में ले कर मे बरछी भाला।
इधर योगिनी फेरी देती डाले रुंडो की माला।
उधर सशंकित थी अग्रि सेना पड़ा सिंहनी से पाला।
रणचंडी का भेष बनाये रानी बनी भवानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।11

सनन सनन कर चली गोलियां जैसे मघा बरसती है।
चम चम कर चमकी तलवारें जैसे घटा लरजती है।
आज सिंहनी सी वह रानी बनकर बिजली टूट पड़ी।
ज्वाला मुखी सदृशूलगती थी बनकर लावा फूटू पड़ी।
प्राणों की अरि भीख मांगता रानी क्रोध समानी थी।
खूब लड़ी मरदानी वह तो रामगढ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी। 12

दुर्गा थी या काली थी या थी रणचंडी की अबतार।
कालमूर्ति सी खडी सामने होकर घोड़े परुअसवार।
सरर सरर उड़ गयी हबा मे उड़ी हबा के झोके से।
टूट पडी अरियो के दल पर नही रुकी वह रोके से।
मुर्दों दिल में भीऊभर देती फिर सै जोश जबानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी। 13

किये बार पर बार धरा पर शोणित की सरिता मचली।
भूखी सिंहनि सी मचल मचल अरि सेना पर रानी मचली।
नही किसी मे इतनी हिम्मत जो रानी का बार सहे।
पौरुष फीका पड गया शत्रु का क्या कोई करबाल गहे।
डाल दिये हथियार शत्रु ने हार हृदय से मानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।14

सौ सौ अरियो के झुंडो पर वह एक बाज सी भारी थी।
घनघोर घटा अंधियारी मे घन दामिनि सी उजियारी थी।
जब घिरी शत्रुओं से पाया तो मारी हृदय कटारी थी।
भारत माता कै चरणो मे अर्पित उसकी कुर्बानी थी।
खूब लडी मर्दानी वह तो रामगढ़ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी ।15

स्वतंत्रता की यह चिनगारी मैने स्वयम जलायी थी।
नही प्रजा का दोष रंच भर इतना ही कह पायी थी।
अपना वह सर्वस्व लुटाकर रानी स्वर्ग सिधार गयी।
और देश की आजादी पर अपना सबकुछ बार गयी।
याद करेगे आने बाले एक बलिदानी रानी थी।
खूब लडी मरदानी वह तो रामगढ की रानी थी।
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी थी। 16

जाओ रानी याद करेगी तुझको कवियों की वाणी.
तेरा नाम रहेगा तब तक जव तक गंगा में पानी.
जब तक सूरज चाँद सितारे तेरी अमिट कहानी है.
स्वतंत्रता में प्रीति मनुज की तेरी आमिट निशानी है
बलिदानो में बलिदान तुम्हारा न जिसकी कोई सानी थी.
दुर्गा रूपा शक्ति स्वरूपा वीर अबंती रानी.
खूबूलडी मरदानी वह तो रामगढ की रानी थी। 17

बही अबंती एक बार फिर तुम्हें आज ललकार रही ।
वही सिंहनी सी घायल हो देखो भर हुंकार रही ।
वही अबंती एक बार फिर तुम्हें चूडियां भेज रही ।
लाल किले पर ध्वज फहराना तुम्हे बुलाबा भेज रही ।
भूल चुके तुम अपना गोरव उसकी याद दिलानी थी
खूव लडी मरदानी वह तो रामगढ की रानी थी.18

प्रेषक
श्याम सिंह लोधी

1 Like · 384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उदासी से भरे हैं दिन, कटें करवट बदल रातें।
उदासी से भरे हैं दिन, कटें करवट बदल रातें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
दौरे-हजीर चंद पर कलमात🌹🌹🌹🌹🌹🌹
दौरे-हजीर चंद पर कलमात🌹🌹🌹🌹🌹🌹
shabina. Naaz
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अकेले आए हैं ,
अकेले आए हैं ,
Shutisha Rajput
🔘सुविचार🔘
🔘सुविचार🔘
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
2331.पूर्णिका
2331.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उनका ही बोलबाला है
उनका ही बोलबाला है
मानक लाल मनु
शायरों के साथ ढल जाती ग़ज़ल।
शायरों के साथ ढल जाती ग़ज़ल।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
Bhupendra Rawat
उनसे कहना ज़रा दरवाजे को बंद रखा करें ।
उनसे कहना ज़रा दरवाजे को बंद रखा करें ।
Phool gufran
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*पाई कब छवि ईश की* (कुंडलिया)
*पाई कब छवि ईश की* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
#प्रेरक_प्रसंग-
#प्रेरक_प्रसंग-
*प्रणय प्रभात*
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* नव जागरण *
* नव जागरण *
surenderpal vaidya
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मन
मन
Punam Pande
It was separation
It was separation
VINOD CHAUHAN
ऐ!दर्द
ऐ!दर्द
Satish Srijan
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
जीवन को
जीवन को
Dr fauzia Naseem shad
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
Sahil Ahmad
Love night
Love night
Bidyadhar Mantry
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
Kshma Urmila
Loading...