Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

राधा की भक्ति

राधा की कृष्ण भक्ति की धारा,
अविरल प्रेम से भीगा जग सारा।
अनन्य भक्ति की वह परिचायक,
श्रीकृष्ण ही हैं उनके नायक।
उनके तन-मन में वही समाए ,
कृष्ण-कृष्ण ही धड़कन गाए।
ग्वाल संग गोपाल बरसाने को जाए,
होली में रंग तभी तो आए ।
प्रेम का रंग सभी पर छाए,
रंग का उमंग सभी को भाए।
प्रियतम की भक्ति ,भक्त का प्रेम,
भक्ति के इस रूप से सबका योगक्षेम।

Language: Hindi
2 Likes · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कलियुग
कलियुग
Bodhisatva kastooriya
सड़कों पर दौड़ रही है मोटर साइकिलें, अनगिनत कार।
सड़कों पर दौड़ रही है मोटर साइकिलें, अनगिनत कार।
Tushar Jagawat
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
सत्य दृष्टि (कविता)
सत्य दृष्टि (कविता)
Dr. Narendra Valmiki
ज़िंदगी इस क़दर
ज़िंदगी इस क़दर
Dr fauzia Naseem shad
प्यार भरा इतवार
प्यार भरा इतवार
Manju Singh
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुमान किस बात का
गुमान किस बात का
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
AJAY PRASAD
दोहा- सरस्वती
दोहा- सरस्वती
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दो हज़ार का नोट
दो हज़ार का नोट
Dr Archana Gupta
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
"मानो या न मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
बड्ड  मन करैत अछि  सब सँ संवाद करू ,
बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,
DrLakshman Jha Parimal
हो नजरों में हया नहीं,
हो नजरों में हया नहीं,
Sanjay ' शून्य'
7) “आओ मिल कर दीप जलाएँ”
7) “आओ मिल कर दीप जलाएँ”
Sapna Arora
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
Shashi kala vyas
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
दुर्गा माँ
दुर्गा माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खुदकुशी नाहीं, इंकलाब करअ
खुदकुशी नाहीं, इंकलाब करअ
Shekhar Chandra Mitra
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
हवस
हवस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे इश्क़ में
तेरे इश्क़ में
Gouri tiwari
संबंधों के पुल के नीचे जब,
संबंधों के पुल के नीचे जब,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...