Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

“राज़” ग़ज़ल

किसी के दर्द को, रुसवा भी, कराऊँ कैसे,
पी गया अश्क़ सब, दामन को, भिगाऊँ कैसे।

उफ़ वो पहली निगाह, कर गई जादू ऐसा,
सुरूर अब भी है, मैं होश मेँ, आऊँ कैसे।

मुझसे मिलता है,बज़्म मेँ वो,अजनबी की तरह,
मुस्कुराने का भी, दस्तूर, निभाऊँ कैसे।

बारहा, ख़्वाब मेँ, आता है, बेधड़क मेरे,
शुक्रिया रहमतों का, उसकी, जताऊँ कैसे ।

कभी तो दौरे-गुफ़्तगू, चले तनहाई मेँ,
तवील दास्ताँ, यकमुश्त, सुनाऊँ कैसे ।

शिफ़ा भी मर्ज़ को, किस तरह से, मिले यारा ,
दिल के ज़ख्मों को, ज़माने को, दिखाऊँ कैसे l

इक मुअम्मा सा बनके, इश्क़, रह गया मेरा,
समझ आता नहीं, परवान, चढ़ाऊँ कैसे।

कुछ अनासिर,उसी के,मुझमे समाने से लगे,
अपनी पहचान, आइने को, बताऊँ कैसे l

पूछते सब हैं कि “आशा”, तुझे हुआ क्या है,
राज़ दिल मेँ है, लबों पर भला, लाऊँ कैसे..!

बारहा # बार बार, frequently
तवील # लम्बी, lengthy
मुअम्मा # पहेली, puzzle
अनासिर # तत्व, घटक, elements, constituents etc.

3 Likes · 3 Comments · 159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
Dr fauzia Naseem shad
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
बेरोजगारी
बेरोजगारी
पंकज कुमार कर्ण
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
Shweta Soni
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
In case you are more interested
In case you are more interested
Dhriti Mishra
अरमान
अरमान
अखिलेश 'अखिल'
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
Vijay kumar Pandey
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
Dr Archana Gupta
*हमारे देवता जितने हैं, सारे शस्त्रधारी हैं (हिंदी गजल)*
*हमारे देवता जितने हैं, सारे शस्त्रधारी हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
होली आई रे
होली आई रे
Mukesh Kumar Sonkar
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
पूर्वार्थ
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
हो गई है भोर
हो गई है भोर
surenderpal vaidya
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
goutam shaw
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
"गुणनफल का ज्ञान"
Dr. Kishan tandon kranti
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
2695.*पूर्णिका*
2695.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
Shakil Alam
जीवात्मा
जीवात्मा
Mahendra singh kiroula
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
शेखर सिंह
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
इंसानियत
इंसानियत
साहित्य गौरव
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
Ravi Betulwala
दोस्ती का कर्ज
दोस्ती का कर्ज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुशी पाने की जद्दोजहद
खुशी पाने की जद्दोजहद
डॉ० रोहित कौशिक
Loading...