Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2016 · 1 min read

राजयोग महागीता:: तू अपनेसे करले अलग निज देह को

घनाक्षरी : अध्याय १ :: गुरुक्तानुभव : पोस्ट:: १०
तू अपने से कर ले अलग निज देह को ,
तब अभी ही सुखी, बंध- मुक्त हो जायेगा ।
वीतराग होकर बन दृष्टा– साक्षी– चैतन्य ,
राम में विश्राम कर मन हर्षायेगा ।
विप्र है न और वर्ण ,निराकार असंग है,
मन में यह वॉछित भाव उपजायेगा ।
है तू कर्ता न भोक्ता ,न ही तू संहारकर्ता ,
ऐसा यदि जान लेगा , मोक्ष को पा जायेगा ।।५/ १!!
——- जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारत के जोगी मोदी ने --
भारत के जोगी मोदी ने --
Seema Garg
सरस्वती वंदना-5
सरस्वती वंदना-5
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लिखते रहिए ...
लिखते रहिए ...
Dheerja Sharma
सामाजिक कविता: बर्फ पिघलती है तो पिघल जाने दो,
सामाजिक कविता: बर्फ पिघलती है तो पिघल जाने दो,
Rajesh Kumar Arjun
उलझते रिश्तो में मत उलझिये
उलझते रिश्तो में मत उलझिये
Harminder Kaur
लोगों के रिश्तों में अक्सर
लोगों के रिश्तों में अक्सर "मतलब" का वजन बहुत ज्यादा होता है
Jogendar singh
"शिक्षक"
Dr. Kishan tandon kranti
STABILITY
STABILITY
SURYA PRAKASH SHARMA
// कामयाबी के चार सूत्र //
// कामयाबी के चार सूत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
“गणतंत्र दिवस”
“गणतंत्र दिवस”
पंकज कुमार कर्ण
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
अपने चरणों की धूलि बना लो
अपने चरणों की धूलि बना लो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
Aarti sirsat
हे मन
हे मन
goutam shaw
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
पंडित मदनमोहन मालवीय
पंडित मदनमोहन मालवीय
नूरफातिमा खातून नूरी
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
अनिल कुमार निश्छल
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
The_dk_poetry
जबरदस्त विचार~
जबरदस्त विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
विमला महरिया मौज
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
Piyush Prashant
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
Shashi Dhar Kumar
*मनमौजी (बाल कविता)*
*मनमौजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
Sukoon
अगर प्यार तुम हमसे करोगे
अगर प्यार तुम हमसे करोगे
gurudeenverma198
अनुगामी
अनुगामी
Davina Amar Thakral
सर्वोपरि है राष्ट्र
सर्वोपरि है राष्ट्र
Dr. Harvinder Singh Bakshi
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...