Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2016 · 1 min read

राजयोग महागीता “” गुरुक्तानुभव” ( घनाक्षरी) पो ६

हमारे ज्ञान की न तृष्णा समाप्त हुई ,
ज्ञान – प्राप्ति का उपाय हमको बताइये ।
कैसे करूँ अनुसंधान शाश्वत मार्ग का मैं ,
वीतराग का उपाय हमें समझाइये
सकल समस्याओं का हल क्या है, गुरुवर !
मोक्ष – प्राप्ति का उपाय हमें बतियाइये ।
राजा जनक पूँछते हैं मुनि अष्टावक्र से ,
सुधा- प्राप्ति का उपाय हमको सुनाइए।।अध्याय १/ १!
—— जितेन्द्रकमल आनंद

Language: Hindi
181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
gurudeenverma198
हिंदी गजल
हिंदी गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
नारी शक्ति का हो 🌹🙏सम्मान🙏
नारी शक्ति का हो 🌹🙏सम्मान🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आकर्षण मृत्यु का
आकर्षण मृत्यु का
Shaily
किताबों वाले दिन
किताबों वाले दिन
Kanchan Khanna
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
*
*"मुस्कराहट"*
Shashi kala vyas
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
भवेश
हरिगीतिका छंद
हरिगीतिका छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संभव कब है देखना ,
संभव कब है देखना ,
sushil sarna
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
Phool gufran
2690.*पूर्णिका*
2690.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
पूर्वार्थ
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्याम के ही भरोसे
श्याम के ही भरोसे
Neeraj Mishra " नीर "
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
दिल का तुमसे सवाल
दिल का तुमसे सवाल
Dr fauzia Naseem shad
"विदाई की बेला में"
Dr. Kishan tandon kranti
नेता खाते हैं देशी घी
नेता खाते हैं देशी घी
महेश चन्द्र त्रिपाठी
इश्क़-ए-फन में फनकार बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती,
इश्क़-ए-फन में फनकार बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
मैं पीपल का पेड़
मैं पीपल का पेड़
VINOD CHAUHAN
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
बहुत कुछ बोल सकता हु,
बहुत कुछ बोल सकता हु,
Awneesh kumar
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*पढ़ने का साधन बना , मोबाइल का दौर (कुंडलिया)*
*पढ़ने का साधन बना , मोबाइल का दौर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
The thing which is there is not wanted
The thing which is there is not wanted
कवि दीपक बवेजा
Loading...