Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Dec 2023 · 1 min read

राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।

राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे
प्रखर वक्ता इतिहास पुरुष, राजनीतिज्ञ महान थे
एक वोट से संसद में, उनकी सरकार गिरी थी
माल भी था उपलब्ध, मंडी पूरी तरह खुली थी
नहीं खरीदा बिकाऊ माल, अपनी सरकार बचाने
साफ सुथरी छवि और अपने आदर्श बचाने
हंसते हंसते विदा हुए,देश संसद का सम्मान बढ़ाने
सरकारें आएंगी जाएंगी,देश से नहीं बड़ा कोई
पूरे भारत ने देखा था,दुख से जनता रोई
राजनीति में शुचिता का, नहीं इससे बढ़ा उदाहरण है
ऐन केन कुर्सी पाने के,देश में भरे उदाहरण हैं
नहीं अटल सा दिखता आदर्श? गिरता स्तर कारण है
भारत मां लाड़ले सपूत को,कोटि कोटि नमन है
देश की माटी में लेते हैं, ऐसे आदर्श जनम हैं

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
बन्दिगी
बन्दिगी
Monika Verma
मंजिल
मंजिल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिल से दिल तो टकराया कर
दिल से दिल तो टकराया कर
Ram Krishan Rastogi
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
Akash Yadav
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
दोहा त्रयी. . . शीत
दोहा त्रयी. . . शीत
sushil sarna
कितना अजीब ये किशोरावस्था
कितना अजीब ये किशोरावस्था
Pramila sultan
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
2635.पूर्णिका
2635.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
"दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
रेशम की डोर राखी....
रेशम की डोर राखी....
राहुल रायकवार जज़्बाती
आंखों में कभी जिनके
आंखों में कभी जिनके
Dr fauzia Naseem shad
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
पूर्वार्थ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
मुफलिसो और बेकशों की शान में मेरा ईमान बोलेगा।
मुफलिसो और बेकशों की शान में मेरा ईमान बोलेगा।
Phool gufran
जन्माष्टमी महोत्सव
जन्माष्टमी महोत्सव
Neeraj Agarwal
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
आत्महत्या
आत्महत्या
Harminder Kaur
जीवनामृत
जीवनामृत
Shyam Sundar Subramanian
मुहब्बत  फूल  होती  है
मुहब्बत फूल होती है
shabina. Naaz
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
The_dk_poetry
प्यार भरा इतवार
प्यार भरा इतवार
Manju Singh
सरोकार
सरोकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*सियासत हो गई अब सिर्फ, कारोबार की बातें (हिंदी गजल/गीतिका)*
*सियासत हो गई अब सिर्फ, कारोबार की बातें (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
Loading...