Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

रहे हरदम यही मंजर

रहे हरदम यही मंजर

तेरा कंधे पे सर रखकर के, शुकराना अदा करना,
रहे हरदम यही मंजर, मुझे कुछ याद ना रखना ।
घड़ी वो थी मुबारक, आपने बोला था शुक्रिया,
एक बार बोले आप, खुदाया सौ बार शुक्रिया,
इसी तरह नज़र-ए-इनायत हम पर तुम सनम रखना,
रहे हरदम यही मंजर, मुझे कुछ याद ना रखना ।
माना पल सुहाने आते हैं ऐसे, पल या दो-पल,
करो न वक़्त को बर्बाद, पल ये जायें ना निकल,
ऐसे वक़्त की खुशबू को, पन्ने में दबा रखना;
रहे हरदम यही मंजर, मुझे कुछ याद ना रखना ।
अभी जाते हो तो जाओ के फिर, आओगे करो वादा,
मेरे हौसले जवान हो, बन गए हैं इरादा,
भूल कर सब, कयामत एक ढ़ाने की फ़िकर रखना;
रहे हरदम यही मंजर, मुझे कुछ याद ना रखना ।

(c) @ दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

7 Likes · 246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
संस्कृति के रक्षक
संस्कृति के रक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
Kr. Praval Pratap Singh Rana
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रजनी कजरारी
रजनी कजरारी
Dr Meenu Poonia
मंजिल तक पहुँचने के लिए
मंजिल तक पहुँचने के लिए
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
एक नई उम्मीद
एक नई उम्मीद
Srishty Bansal
थोड़ी कोशिश,थोड़ी जरूरत
थोड़ी कोशिश,थोड़ी जरूरत
Vaishaligoel
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
Ranjeet kumar patre
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
वो भी तो ऐसे ही है
वो भी तो ऐसे ही है
gurudeenverma198
फूल सूखी डाल पर  खिलते  नहीं  कचनार  के
फूल सूखी डाल पर खिलते नहीं कचनार के
Anil Mishra Prahari
वैसे अपने अपने विचार है
वैसे अपने अपने विचार है
शेखर सिंह
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
मनुष्य प्रवृत्ति
मनुष्य प्रवृत्ति
विजय कुमार अग्रवाल
क्या है मोहब्बत??
क्या है मोहब्बत??
Skanda Joshi
भागमभाग( हिंदी गजल)
भागमभाग( हिंदी गजल)
Ravi Prakash
"आशिकी में"
Dr. Kishan tandon kranti
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
हर कभी ना माने
हर कभी ना माने
Dinesh Gupta
लोग बंदर
लोग बंदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गौरवशाली भारत
गौरवशाली भारत
Shaily
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
Sonam Puneet Dubey
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
पूर्वार्थ
2547.पूर्णिका
2547.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
◆व्यक्तित्व◆
◆व्यक्तित्व◆
*प्रणय प्रभात*
गुरु
गुरु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...