Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2023 · 5 min read

रहस्यमय तहखाना – कहानी

एक गाँव में एक किसान परिवार रहता था | यादव जी के इस परिवार में कुल सात सदस्य थे | यादव जी के माता – पिता , उनकी पत्नी सुशीला , बेटी सीता , बेटा सुजान और एक विधवा बहन रामकली | परिवार के सभी सदस्य मिलकर खेती किया करते थे किन्तु उस परिवार में एक सदस्य था सुजान जिसे काम करने से परहेज था | जो घर में सबसे छोटा था | जिसकी उम्र करीब 15 वर्ष थी | पढ़ाई से भी इसका कोई विशेष नाता नहीं था | रो – धोकर वह किसी तरह दसवीं तक तीसरे दर्जे से पास हो गया था | सुजान के माता – पिता ने सोचा कि सुजान पढ़ नहीं पाया तो कोई बात नहीं पर वह खेती के काम में तो हाथ बटाये |
घर के सभी सदस्य पूरी कोशिश करते रहे कि सुजान भी घर के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझे किन्तु उस पर तो किसी बात का कोई असर नहीं होता था | सारा दिन दोस्तों के साथ मस्ती और जब भूख लगे तो घार वापसी | कई बार सुजान को झिडकियां दी गयीं पर | सुजान भी अपने घर वालों के रवैये से परेशान था | उसका मन ही नहीं लगता था किसी काम में |
अब सुजान 22 वर्ष का हो गया था | वह अपने घर वालों से अपनी शादी के लिए कहता पर घर वाले उसकी बात अनसुनी कर देते | उसे इस बात का ताना दिया जाता कि जब तक वह खेती के काम में हाथ नहीं बटायेगा तब तक उसकी शादी नहीं हो सकती | एक दिन घर वालों कि बात से तंग होकर सुजान घर से दूर जंगल में चला गया | जंगल में एक पुरानी हवेली थी | सुजान उसी हवेली में चला गया | जब वह भीतर गया तो उसने देखा कि हवेली में नीचे कि ओर ख़ुफ़िया सीढ़ियाँ हैं वह यह सोचकर आगे बढ़ गया कि शायद यहाँ कोई खजाना होगा | सीढ़ियों से नीचे जाने पर उसे एक तहखाना दिखाई दिया | उस तहखाने में जैसे ही उसने पैर रखा उसे एक आवाज सुनाई दी |
आओ सुजान | क्या हुआ घर वालों से परेशान होकर यहाँ आये हो | खजाना तो यहाँ है पर वह तुम्हें मिलेगा नहीं |
सुजान ने कहा – क्यों ?
आवाज आई – क्योंकि यह खजाना मेहनती व्यक्ति के लिए वर्षों से इन्तजार कर रहा है |
सुजान ने कहा – मुझे यह खजाना चाहिए | किसी भी कीमत पर |
आवाज आई – तुम्हें यह खजाना मिल सकता है पर ……………. |
सुजान ने कहा – पर क्या !
आवाज आई – इस खजाने के लिए तुम्हें अपने जीवन के तीन माह खर्च करने होंगे और जैसा मैं कहूँगा करना होगा |
सुजान ने कहा – इस खजाने को पाने के लिए मैं कुछ भी करूंगा |
आवाज आई – तो ये जो बोरी तुम्हारे पास रखी है इसे लेकर घर जाओ | इसमें जो सौंफ के बीज हैं इन्हें अपने खेत में बो दो | इसके बाद तुम फिर से एक महीने बाद मुझसे आकर मिलो |
सुजान खुश हो गया | सौंफ के बीज की बोरी उठाई और घर चल दिया |
घर पहुंचकर उसने सौंफ की खेती की इच्छा जताई | घर वालों ने सोचा चलो एक बार इसकी भी सुन लेते हैं | चलो किसी तरह ये खेती करने को तैयार तो हुआ |
सुजान ने अगले दिन खेत में सौंफ के बीज बो दिए और एक महीने बीतने का इन्तजार करने लगा | इसी बीच सौंफ के पौधे जमीन के बाहर आ गए | महीना भी पूरा हो चला |
अगले दिन सुजान उसी हवेली की ओर चल दिया | हवेली पहुंचकर वह उसी तहखाने में जा पहुंचा |
आवाज आई – आओ सुजान | क्या सौंफ के बीज तुमने बो दिए अपने खेत में ?
सुजान बोला – हाँ | उसके नन्हे – नन्हे पौधे भी निकल आये हैं | अब बताओ आगे क्या करना है ? ताकि जल्दी से जल्दी मैं इस तहखाने के खजाने को पा सकूं |
आवाज आई – जो नन्हे – नन्हे पौधे निकल आये हैं खेत में उनकी गुड़ाई करो और ओरगेनिक खाद डालो उसमे | और हां एक बार हिसाब से पानी भी दे दो | फिर दुबारा मुझसे आकर एक महीने बाद मिलो |
सुजान अच्छा ठीक है | कहकर घर आ गया | अगले दिन वह खेत पर गया और जैसा उसे बताया गया था वैसा उसने किया | और पहले की तरह वह महीना बीतने का इंतज़ार करने लगा |
महीना बीतते तक पौधों में सौंफ के सुन्दर फूल खिलने लगे | पौधों पर फूल देखकर सुजान बहुत खुश हुआ |
महीना बीता और सुजान फिर खजाने की लालच में वापस उसी तहखाने में जा पहुंचा |
आवाज आई – आओ सुजान | तुम्हारे खेत में सौंफ की फसल कैसी हो रही है |
सुजान बोला – फूल आ गए हैं और जल्दी भी सौंफ लग जायेगी | अब बताओ आगे क्या करना है ?
आवाज आई – अब तुम एक बार खेत में अच्छे से देख लो कि कहीं खरपतवार न लगी हो | यदि हो तो उसे निकाल फेंको | फिर मुझसे मिलने एक महीने बाद आना और हाँ वो सौंफ की फसल से होने वाली आय का हिसाब भी लेते आना |
सुजान बोला – ठीक है | सुजान वापस घर आ गया | अगले दिन से वह खेत में हुई खरपतवार को निकालने में जुट गया | फसल पकने को आ गयी | फसल को उसने जब बेचा तो उसे विश्वास ही नहीं हुआ कि इस फसल से इतनी कमाई भी हो सकती है | उसे लगा जैसे उसे खजाना मिल गया |
अगले दिन हिसाब निकालकर वह वापस उसी तहखाने में जा पहुंचा |
आवाज आई – कहो सुजान | कितनी कमाई हुई सौंफ की खेती से |
सुजान बोला – बता नहीं सकता | जैसे मुझे खजाना मिल गया |
आवाज आई -बिलकुल सही सुजान | तुमने सही पहचाना | जिस खजाने कि लालच में तुम यहाँ आये थे वो खजाना तो तुम्हें मिल गया |
सुजान बोला – नहीं नहीं | मुझे तो इस तहखाने का खजाना चाहिए |
आवाज आई – बेटा सुजान | इस तहखाने में कोई खजाना नहीं है | तुम्हारे भीतर बैठे आलस को हमने तुम्हारे मन से हटा दिया | तुम्हारी मेहनत ही तुम्हारा असली खजाना है |
सुजान का चेहरा उतर गया | अचानक उसकी पीठ पर किसी ने अपना हाथ रखा | सुजान डर गया | पीछे मुड़कर देखा तो अपने पिताजी को खड़ा पाया |
उसके पिताजी ने कहा कि हमने बहुत कोशिश की लेकिन कुछ नहीं कर पाए | यह मेरी अंतिम कोशिश थी जिसमे तुम्हारे सहयोग से मैं सफल हुआ |
सुजान अपने पिताजी के पैर पर गिर पड़ा और पिछली बातों के लिए माफ़ी मांगने लगा |
पिता – पुत्र घर की ओर चल दिए | आज सुजान को खुद पर गर्व महसूस हो रहा था | गाँव के दूसरे लोग भी सुजान से सौंफ की खेती के लिए सलाह लेने आने लगे |
राज्य सरकार की ओर से सुजान को सौंफ की खेती के प्रचार – प्रसार के लिए सर्वश्रेष्ठ कृषक पुरस्कार से सम्मानित किया गया |

1 Like · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
"इस रोड के जैसे ही _
Rajesh vyas
गुरु नानक देव जी --
गुरु नानक देव जी --
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
Phool gufran
मैं सत्य सनातन का साक्षी
मैं सत्य सनातन का साक्षी
Mohan Pandey
जा रहा हु...
जा रहा हु...
Ranjeet kumar patre
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
माना नारी अंततः नारी ही होती है..... +रमेशराज
माना नारी अंततः नारी ही होती है..... +रमेशराज
कवि रमेशराज
यूॅं बचा कर रख लिया है,
यूॅं बचा कर रख लिया है,
Rashmi Sanjay
उतरन
उतरन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
आर.एस. 'प्रीतम'
माता के नौ रूप
माता के नौ रूप
Dr. Sunita Singh
मैं पढ़ने कैसे जाऊं
मैं पढ़ने कैसे जाऊं
Anjana banda
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
ज़ुल्मत की रात
ज़ुल्मत की रात
Shekhar Chandra Mitra
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
"तब कोई बात है"
Dr. Kishan tandon kranti
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
DrLakshman Jha Parimal
उम्र अपना निशान
उम्र अपना निशान
Dr fauzia Naseem shad
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
Paras Nath Jha
निशान
निशान
Saraswati Bajpai
बोलो ! ईश्वर / (नवगीत)
बोलो ! ईश्वर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...