Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2024 · 1 min read

रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।

रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
बच्चे पहले सीखते, सुनकर बुरा विचार।।

अच्छी आदत आपकी, मानो गंगा धार।
देखे चाहे अरु चखे, अमृत सरिस सत्कार।।

आर.एस. ‘प्रीतम’

1 Like · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
Surinder blackpen
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
Shweta Soni
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
Ravi Prakash
चौथापन
चौथापन
Sanjay ' शून्य'
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ
यादें
यादें
Dinesh Kumar Gangwar
हिन्द के बेटे
हिन्द के बेटे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेम भरी नफरत
प्रेम भरी नफरत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Jindagi ka kya bharosa,
Jindagi ka kya bharosa,
Sakshi Tripathi
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
यह तुम्हारी गलतफहमी है
यह तुम्हारी गलतफहमी है
gurudeenverma198
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कवि रमेशराज
2715.*पूर्णिका*
2715.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
Phool gufran
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*परिचय*
*परिचय*
Pratibha Pandey
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
Manisha Manjari
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
इंसान में नैतिकता
इंसान में नैतिकता
Dr fauzia Naseem shad
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
मेरी कलम
मेरी कलम
Shekhar Chandra Mitra
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
"मौन"
Dr. Kishan tandon kranti
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
surenderpal vaidya
Loading...