Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

रक्षाबंधन का त्योहार

रक्षाबंधन का त्यौहार

आया है आज राखी का त्यौहार
लेकर के यह खुशियों की बौछार।
रक्षाबंधन का त्यौहार है आया
राखी बंधवा लो मेरे प्यारे भैया।
प्रतीक है भाई-बहन के प्रेम का
प्यारा त्योहार है ये हम सबका।
भाई-बहन का प्यार है ये राखी
अटूट-बंधन की मिसाल है राखी।
रक्षा-सूत्र है हमारे प्रेम का साक्षी
स्नेह-सौहार्द्र का पर्व है ये राखी।
रेशम की एक डोर स्नेह का बंधन
लेती हैं वचन रक्षा का आजीवन।
कच्चे धागों, पक्के रिश्तों का त्यौहार
जिसका हम करते सालभर इंतजार।
रक्षाबंधन का त्यौहार है आया
राखी बंधवा लो मेरे प्यारे भैया।
-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
सूरज चाचा ! क्यों हो रहे हो इतना गर्म ।
सूरज चाचा ! क्यों हो रहे हो इतना गर्म ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
सफ़ेद चमड़ी और सफेद कुर्ते से
सफ़ेद चमड़ी और सफेद कुर्ते से
Harminder Kaur
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
gurudeenverma198
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
Sadhavi Sonarkar
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
पुकार
पुकार
Manu Vashistha
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
कृष्णकांत गुर्जर
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
पत्नी की पहचान
पत्नी की पहचान
Pratibha Pandey
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
हम सुख़न गाते रहेंगे...
हम सुख़न गाते रहेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैंने बार बार सोचा
मैंने बार बार सोचा
Surinder blackpen
#चुनावी_दंगल
#चुनावी_दंगल
*प्रणय प्रभात*
*आगे आनी चाहिऍं, सब भाषाऍं आज (कुंडलिया)*
*आगे आनी चाहिऍं, सब भाषाऍं आज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"रौनकें"
Dr. Kishan tandon kranti
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
पूर्वार्थ
3155.*पूर्णिका*
3155.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी की कहानी लिखने में
जिंदगी की कहानी लिखने में
Shweta Soni
*चिंता और चिता*
*चिंता और चिता*
VINOD CHAUHAN
जज्बात
जज्बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*जितना आसान है*
*जितना आसान है*
नेताम आर सी
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
Basant Bhagawan Roy
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
AMRESH KUMAR VERMA
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
कवि रमेशराज
Loading...