Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2023 · 2 min read

रक्त संबंध

लघुकथा

रक्त सम्बंध

रोज सुबह “गाड़ी वाला आया, घर से कचरा निकाल” गाने की आवाज़ सुनकर सबकी नींद खुलती है। प्रायः दीप्ति जी ही डस्टबिन को बाएँ हाथ से पकड़ कर लातीं और नाक-भौं सिकोड़ते हुए नगरपालिका के कर्मचारियों के हवाले करतीं। कभी-कभी उनका बारह वर्षीय बेटा रमेश भी डस्टबिन लाता। तब मालती की नजर उस पर बराबर लगी रहती। डस्टबिन के कचरे को नगरपालिका की गाड़ी में खाली करने के बाद हैंडवॉश से हाथ साफ करना उनकी दिनचर्या में शामिल था। यदि कभी उनका बेटा रमेश किसी सफाई कर्मचारी को छू लेता, तो दीप्ति उसे तुरन्त नहाने के लिए कहतीं।
एक दिन अचानक दोपहर में दीप्ति को सूचना मिली, “आपका बेटा जिस आटो में सवार होकर मार्केट गया था, उसका एक्सीडेंट हो गया है। रमेश को गहरी चोट लगी है और वह सिटी हॉस्पिटल में एडमिट है।”
रोते-रोते, गिरते-पड़ते दीप्ति किसी तरह हॉस्पिटल पहुँची। तब तक रमेश को होश आ गया था। उसके सिर और पैर में पट्टी बंधी थी। उसे खून चढ़ाया जा रहा था। दीप्ति अपने बेटे से लिपट कर रोने लगी।
डॉक्टर की आवाज़ सुनकर वह शांत हुई, “थैंक गॉड, अब सब कुछ नॉर्मल है। ईश्वर का शुक्र है कि आप इन्हें तुरंत यहाँ ले आए और एक अपरिचित बच्चे को रक्तदान भी किए। अब यह खतरे से बाहर है। आप ये जूस पी लीजिएगा। आधा घंटा रूकेंगे, नॉर्मल होने के बाद आप अपने घर जा सकते हैं।” डॉक्टर रमेश के बैड के बगल में लेटे शख्स, जिससे ब्लड लेकर रमेश को चढ़ाया जा रहा था, की कलाई से सूई निकालते हुए बोले।
दीप्ति ने हाथ जोड़कर उस व्यक्ति और डॉक्टर का शुक्रिया अदा किया।
दीप्ति को वह शख्स कुछ जाना-पहचाना-सा लगा। उनके जाने के बाद रमेश बोला, “मम्मी, घर जाकर आप अच्छे-से नहा धो लीजिएगा। और हाँ, अब मेरा क्या होगा ? आज दुर्घटना के बाद मुझे यहाँ लाने और खून देकर मेरी जान बचाने वाले अंकल कोई और नहीं बल्कि हर सुबह हमारे मुहल्ले का कचरा इकट्ठा करने वाले नगरपालिका के सफाईकर्मी ही थे। अब तो मेरे शरीर में उनका खून भी बह रहा है।”
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये धरती महान है
ये धरती महान है
Santosh kumar Miri
*मुर्गा (बाल कविता)*
*मुर्गा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
न  सूरत, न  शोहरत, न  नाम  आता  है
न सूरत, न शोहरत, न नाम आता है
Anil Mishra Prahari
अपनी मिट्टी की खुशबू
अपनी मिट्टी की खुशबू
Namita Gupta
🙅राहत की बात🙅
🙅राहत की बात🙅
*प्रणय प्रभात*
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
Jitendra Chhonkar
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
धुंध छाई उजाला अमर चाहिए।
धुंध छाई उजाला अमर चाहिए।
Rajesh Tiwari
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मुहब्बत का घुट
मुहब्बत का घुट
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आप मुझको
आप मुझको
Dr fauzia Naseem shad
काश - दीपक नील पदम्
काश - दीपक नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
आनन्द मिश्र
"सहर होने को" कई और "पहर" बाक़ी हैं ....
Atul "Krishn"
कौआ और बन्दर
कौआ और बन्दर
SHAMA PARVEEN
पेड़ और चिरैया
पेड़ और चिरैया
Saraswati Bajpai
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
Keshav kishor Kumar
अव्यक्त प्रेम (कविता)
अव्यक्त प्रेम (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
होश खो देते जो जवानी में
होश खो देते जो जवानी में
Dr Archana Gupta
हमेशा फूल दोस्ती
हमेशा फूल दोस्ती
Shweta Soni
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
24/231. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/231. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
बैठ गए
बैठ गए
विजय कुमार नामदेव
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
Loading...